राम मंदिर से सिरोही का है खास कनेक्शन, पिंडवाड़ा से भेजे गए थे निर्माण के लिए पत्थर

0
159

सिरोही: एक तरफ जहां राम मंदिर को लेकर फैसला आने को है तो वहीं राम मंदिर का सिरोही से जुडा हुआ एक पहलु भी है. हालांकि ये बात सालों पुरानी है मगर वर्षो बाद राम मंदिर सुर्खियों में आते ही सिरोही का पिंडवाड़ा भी सुर्खियों में आ गया है. सिरोही जिले के पिंडवाड़ा से करीब 15 से 20 वर्ष पूर्व यहां के कारीगरों के तराशे हुए पत्थर अयोध्या राम मंदिर के निर्माण के लिए गए थे. माना जाता है कि सिरोही जिले के पिंडवाड़ा के पत्थरों के कारीगर अच्छी कारीगरों के जरिए देशभर में जाने जाते हैं.

देश के सबसे अहम मामले राम मंदिर के फैसले की घड़ी आने को है. पूरे देश की नजर इस फैसले पर है और टकटकी लगाए इस फैसले का इंतजार कर रही हैं. ऐसे में सिरोही से राम मंदिर के निर्माण के लिए गए पत्थरों की भी चर्चा होने लगी है. माना जाता है कि कारसेवा के समय विश्वहिन्दु परिषद के तत्कालीन अध्यक्ष दिवगंत अशोक सिंघल सिरोही जिले के पिंडवाड़ा आए थे और पिंडवाड़ा में मौजुद मारबल और ग्रेनाइट के पत्थरों की ईकाइयों पर पत्थरों को हाथों से तराश रहे कारीगरों की कारीगिरी को देख पिंडवाड़ा से  अयोध्या में पत्थर ले जाने का फैसला किया और भारी मात्रा में यहां के पत्थरों को तराश कर अयोध्या भेजा गया था.

जिस समय अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण की सुगबुगाहट होने लगी थी तो सिरोही जिले के पिंडवाड़ा से अयोध्या में पत्थर लेने जाने का हिन्दु संगठनों द्वारा निर्णय किया गया था. उस समय पिंडवाड़ा से भरतपुर के बंसी पहाड़पुर, जैसलमेर, राजसमंद के पत्थरों को पिंडवाड़ा में तराशकर अयोध्या में पत्थर भेजे गए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here