CM गहलोत के सर्वण आरक्षण EWS के मास्टर स्ट्रोक ने राजस्थान में लगाई कांग्रेस की नैया पार!

0
25

जयपुर. राजस्थान में निकाय चुनाव के पहले चरण के नतीजों (Rajasthan Municipal Election Results 2019) में कांग्रेस को 973 वार्डों में सफलता मिली है. इसी के साथ 49 निकायों में से 30 में कांग्रेस का बोर्ड बनना लगभग तय माना जा रहा है. जबकि बीजेपी महज 7 निकायों में बोर्ड बनाने तक सिमट गई हैं. कांग्रेस पार्टी की इस शानदार सफलता के पीछे कांग्रेस सरकार का EWS आरक्षण (EWS Reservation) के मास्टर स्ट्रोक को भी बताया जा रहा है जिसके चलते पिछले 20-25 दिनों से प्रदेशभर से लोग सीएम अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) का आभार जताने जयपुर पहुंच रहे हैं. गहलोत सरकार ने EWS में नया फॉर्मूला (Rajasthan formula) लागू करते हुए अब EWS आरक्षण में अचल संपत्ति के प्रावधान (Provision of immovable property) को हटा दिया है. इस प्रावधान के बाद से सीएम गहलोत का आभार जताने जो संगठन और समुदाय के लोग राजधानी पहुंच रहे थे उनमें BJP के समर्थक भी थे. निकाय चुनाव से ठीक पहले गहलोत सरकार ने इस फैसल से बीजेपी के वोट बैंक में सैंध लगाई और नतीज भी उनके अनुकूल ही सामने आए.

राजस्थान सरकार ने हटा दी है यह बाधा
अशोक गहलोत सरकार ने पिछड़े सवर्णों को राहत देते हुए उनको देय 10 प्रतिशत आरक्षण में बाधा बन रहे भूमि और भवन संबंधी प्रावधान को खत्म कर दिया है. गहलोत ने पिछले महीने ही इसकी घोषणा की थी. बाद में इस घोषणा को निकाय चुनाव से पहले तत्काल अमली जामा पहना दिया. राज्य सरकार के इस निर्णय से EWS आरक्षण से की एक बड़ी जटिलता खत्म हो गई है. अब पिछड़े सवर्णों को इसका प्रमाण-पत्र बनवाने में आसानी रहेगी.

अब 8 लाख रुपए वार्षिक आय ही आधार रहेगी

संपत्ति संबंधी प्रावधान पूरी तरह से समाप्त कर दिए जाने से अब परिवार की कुल वार्षिक आय अधिकतम 8 लाख रुपए ही इसका आधार मानी जाएगी. पहले इस पेचिदा प्रावधान के कारण सामान्य वर्ग की 20 फीसदी से भी कम आबादी इस आरक्षण के दायरे में आ रही थी. लेकिन इस अहम बदलाव के बाद अब EWS आरक्षण में 90 फीसदी से ज्यादा आबादी कवर हो जाएगी. सरकार के इस फैसले से प्रक्रियाधीन भर्तियों में भी अभ्यर्थियों को लाभ मिल सकेगा.

राजधानी में उमड़े आभार जताने वाले, विभिन्न समाजिक संगठन भी आगे आए

 

सीएम अशोक गहलोत के इस निर्णय पर राजपूत और ब्राह्मण समाज सहित लाभान्वित होने वाले समाजों के नेताओं ने उनका आभार जताया है. क्षत्रिय युवक संघ प्रमुख भगवान सिंह रोलसाहबसर ने सीएम को धन्यवाद देते हुए कहा कि गहलोत ने आरक्षण से जुड़ी जटिलताओं को खत्म कर दिया है. इससे आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग को सकारात्मक संदेश मिला है.