राष्‍ट्रपति बनने के बाद अब 5 लाख भारतीयों को अमेरिकी नागरिकता दे सकते हैं जो बाइडन

0
15
Democratic presidential nominee Joe Biden delivers remarks at the Chase Center in Wilmington, Delaware, on November 6, 2020. - Three days after the US election in which there was a record turnout of 160 million voters, a winner had yet to be declared. (Photo by ANGELA WEISS / AFP) (Photo by ANGELA WEISS/AFP via Getty Images)

जो बाइडन ने अमेरिकी राष्‍ट्रपति चुनाव में ऐतिहासिक जीत दर्ज की है. उन्‍होंने डोनाल्‍ड ट्रंप को शिकस्‍त दी है. इसके बाद उन्‍होंने देश को संबोधित करते हुए कहा है कि वह वादा करते हैं कि वह तोड़ने या बांटने वाले राष्‍ट्रपति नहीं, बल्कि एकजुट करने वाले राष्‍ट्रपति बनेंगे. ऐसे में यह भी कयास लगाए जा रहे हैं कि जो बाइडन अमेरिकी में अप्रवासियों की समस्‍याओं का भी समाधान करने के लिए उपयुक्‍त कदम उठा सकते हैं. यह भी संभावना जताई जा रही है कि जो बाइडन करीब 11 लाख गैर दस्‍तावेजी अप्रवासियों को अमेरिकी नागरकिता का रास्‍ता भी आसान कर सकते हैं. इनमें करीब 5 लाख भारतीय हैं.

जो बाइडन के चुनावी अभियान के दस्‍तावेज में कहा गया है, ‘बाइडन तुरंत कांग्रेस के साथ काम करना शुरू कर देंगे ताकि आव्रजन सुधार संबंधी कानून पारित किया जा सके, जो हमारी प्रणाली को आधुनिक बनाता है, जिसमें लगभग 11 लाख गैर दस्‍तावेजी अप्रवासियों के लिए नागरिकता का रोडमैप प्रदान करके परिवारों को प्राथमिकता पर रखा जाएगा. इनमें भारत के 500,000 से अधिक अप्रवासी शामिल हैं.’

ऐसे में संभावना जताई जा रही है कि बाइडन प्रशासन परिवार आधारित आव्रजन प्रणाली का समर्थन करेगा और अमेरिका के आव्रजन प्रणाली के मूल सिद्धांत के रूप में परिवार के एकीकरण को संरक्षित करेगा. इसमें परिवार वीजा बैकलॉग को कम करना भी शामिल हैं. इसके साथ ही बाइडन का नया प्रशासन अमेरिका में हर साल आने वाले शरणार्थियों की तय न्‍यूनतम संख्‍या 95000 पर भी कांग्रेस के साथ काम करेगा. यह भी कहा जा रहा है कि बाइडन की ओर से यह संख्‍या 1.25 लाख भी करने की योजना पर काम करेंगे. इससे अमेरिका में आने वाले शरणार्थियों को नागरिकता मिलने का रास्‍ता साफ हो जाएगा.

READ More...  Lock down: निजी वाहन संचालन के लिए 26 मार्च तक ले सकते हैं अनुमति

बाइडन प्रशासन की योजना एक बड़ी आव्रजन सुधार पर काम करने की है. प्रशासन एकमुश्त या टुकड़ों में इन सुधारों को लागू करेगा. बाइडेन अभियान द्वारा जारी दस्तावेज में कहा गया है, ‘उच्च कौशल के अस्थायी वीजा का इस्तेमाल पहले से अमेरिका में विभिन्न पदों पर काम करने के लिए मौजूद पेशेवरों की नियुक्ति को हतोत्साहित करने के लिए नहीं किया जाना चाहिए.’

वहीं अमेरिका के निर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन एच-1बी सहित अन्य उच्च कौशल वीजा की सीमा भी बढ़ा सकते हैं. इसके अलावा वह विभिन्न देशों के लिए रोजगार आधारित वीजा के कोटा को समाप्त कर सकते हैं. माना जा रहा है कि इन दोनों ही कदमों से हजारों भारतीय पेशेवरों को फायदा होगा. डोनाल्ड ट्रंप प्रशासन की कुछ आव्रजन नीतियों से भारतीय पेशेवर बुरी तरह प्रभावित हुए थे.