अजय सिंह – चिट्ठी की बातें किसी भी व्यक्ति या गांधी परिवार के खिलाफ नहीं थीं. वह सिर्फ एक सुझाव था.

0
34

कांग्रेस में शीर्ष नेतृत्व को लेकर विवाद गहराता जा रहा है. सोमवार को कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक में नेताओं के बीच का मनमुटाव एक बार फिर सामने आया. बता दें कि 23 नेताओं द्वारा कांग्रेस नेतृत्व को लेकर जो चिट्ठी लिखी गई, उसके कारण बैठक की शुरुआत काफी तीखी रही. पूरे दिन यह चिट्ठी विवाद का केंद्र बनी रही.

मध्य प्रदेश में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अजय सिंह ने पार्टी में उठे लेटर विवाद पर टिप्पणी करते हुए कहा है कि चिट्ठी की बातें किसी भी व्यक्ति या गांधी परिवार के खिलाफ नहीं थीं. वह सिर्फ एक सुझाव था. सोनिया जी पद अपने पास रखने को तैयार नहीं हैं, ऐसे में अगर राहुल गांधी कार्यभार संभालने के लिए तैयार हैं, तो यह ठीक है, लेकिन यदि नहीं, तो पार्टी नेतृत्व पार्टी के संविधान के तहत सोचे और फैसला ले.

कांग्रेस नेता ने खून से लिखी चिट्ठी

वहीं दूसरी ओर दिल्ली में कांग्रेस काउंसलर संदीप तंवर ने कांग्रेस नेतृत्व को लेकर छिड़े विवाद में खून से खत लिख डाला. तंवर ने यह चिट्ठी राहुल गांधी को अध्यक्ष बनाए जाने के हक में लिखी है.

कांग्रेस नेता ने खून से लिखी चिट्ठी

सोनिया गांधी को लिखी गई चिट्ठी में उन्होंने कहा है कि अगर राहुल गांधी को पार्टी अध्यक्ष नहीं बनाया गया तो यह पार्टी के हित में फैसला नहीं होगा क्योंकि राहुल गांधी ने जमीनी लड़ाई लड़ी है.

गौरतलब है कि कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक में सोनिया गांधी ने अंतरिम अध्यक्ष पद से इस्तीफे की बात कही थी. इसके साथ ही उन्होंने पार्टी को नया अध्यक्ष चुनने के लिए भी कहा था. हालांकि, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, एके एंटनी समेत कई नेताओं ने सोनिया गांधी से पद पर बने रहने की अपील की थी.

READ More...  मौतों की संख्या हुई 1185, राजस्थान में आज सुबह फिर कोरोना के अधिक मामले