अशोक गहलोत ने घूंघट के खिलाफ खोला मोर्चा, कहा- राजस्थान में जल्द खत्म करेंगे ये प्रथा

0
471

जयपुर. राजस्थान (Rajasthan) के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने घूंघट के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. गहलोत ने अहमदबाद में शनिवार को कहा कि राजस्थान में महिलाओं की घूंघट प्रथा जल्द खत्म होगी. उन्होंने कहा, ‘जब राजस्थान की महिलाओं को घूंघट में देखता हूं तो मुझे बहुत दुख होता है, आखिर कब तक महिलाएं घूंघट में रहेंगी.’

गुजरात में महिलाओं की स्थिति बेहतर होने की बात करते अशोक गहलोत ने कहा कि राजस्थान में घूंघट प्रथा जल्द खत्म होनी चाहिए. इससे पहले जयपुर में 5 नवंबर को एक कार्यक्रम के दौरान गहलोत ने कहा था कि घूंघट का जमाना अब गया, लेकिन गांवों में आज भी महिलाएं घूंघट करती हैं. उन्होंने कहा, ‘मैं पूछना चाहता हूं कि एक महिला को घूंघट में कैद करने का एक समाज को क्या अधिकार है? जब तक घूंघट रहेगा तब तक महिलाएं आगे नहीं बढ़ पाएंगी, जमाना गया घूंघट का.’

‘अर्थव्यवस्था के मोर्चे पर मोदी सरकार पूरी तरह विफल’
वहीं, अर्थव्यवस्था के मुद्दे पर राजस्थान के सीएम ने मोदी सरकार पर जमकर प्रहार किया. गहलोत ने देश में आर्थिक वृद्धि दर में गिरावट को लेकर मोदी सरकार को अर्थव्यवस्था के मोर्चे पर पूरी तरह विफल करार देते हुए शनिवार को पूछा कि यह आर्थिक मंदी नहीं तो क्या है?

 

‘जीडीपी वृद्धि दर घटकर 4.5 प्रतिशत रह गई’
गहलोत ने ट्वीट किया है, ‘मौजूदा वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में भारत की जीडीपी वृद्धि दर घटकर 4.5 प्रतिशत रह गयी जो कि बीते छह साल में निचले स्तर पर है. लगातार पांचवीं तिमाही में इस तरह की गिरावट दर्ज की गयी है.’

READ More...  Jharkhand Election Result 2019: मैदान में 20 ऐसे उम्मीदवार, जिनके वोटों का अंतर 1000 से कम

गहलोत ने हैशटैग ‘जीडीपी के बुरे दिन’ के साथ लिखा है, “अगर यह आर्थिक मंदी नहीं तो यह क्या है” उल्लेखनीय है कि राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय ने शुक्रवार को वृद्धि दर संबंधी आंकड़े जारी किए जिनके अनुसार जुलाई-सितंबर की दूसरी तिमाही में जीडीपी वृद्धि दर घटकर 4.5 प्रतिशत रह गई है.