सेनाध्यक्ष बिपिन रावत होंगे देश के पहले CDS, कैबिनेट कमेटी ने लगाई मुहर: सूत्र

0
50

नई दिल्ली : भारतीय थल सेनाध्यक्ष बिपिन रावत (Bipin Rawat) पहले चीफ डिफेंस स्टाफ हो सकते हैं. यह जानकारी सूत्रों ने दी है. सूत्रों के अनुसार कैबिनेट कमेटी ने रावत के नाम पर मुहर लगा दी है. गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) ने 15 अगस्त को घोषणा की थी कि भारत में तीनों सेना के प्रमुख के रूप में सीडीएस होगा. बिपिन रावत 31 दिसंबर को सेना से सेवानिवृत हो रहे हैं. अधिकारियों ने बताया कि सीडीएस अन्य सेना प्रमुखों के समान ही होंगे. हालांकि, प्रोटोकाल की सूची में सीडीएस, सेना प्रमुखों से ऊपर होंगे.

बता दें रक्षा मंत्रालय ने चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) के 65 वर्ष की अधिकतम आयु सीमा तक सेवा देने के वास्ते नियमों में संशोधन किया है. अगर तीनों सेनाओं के प्रमुख में से किसी को नियुक्त किया जाता है तो चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ की अधिकतम आयु 65 वर्ष करने के लिए सेवानिवृत्ति आयु में विस्तार करने के लिए सेना, नौसेना और भारतीय वायुसेना के सेवा नियमों में बदलाव किये गये है.

चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ का पद तीनों सेनाओं के ऊपर होता है. 1999 के कारगिल युद्ध के बाद से सुरक्षा विशेषज्ञ इसकी मांग करते रहे हैं. कारगिल के बाद तत्कालीन उपप्रधानमंत्री लाल कृष्ण आडवाणी की अध्यक्षता में बने ग्रुप ऑफ मिनिस्टर्स (GOM) ने भी तीनों सेनाओं के बीच बेहतर तालमेल स्थापित करने के लिए CDS की सिफारिश की थी. GOM ने अपनी सिफारिश में कहा था अगर कारगिल युद्ध के दौरान ऐसी कोई व्यवस्था होती और तीनों सेनाएं बेहतर तालमेल से युद्ध के मैदान में उतरतीं तो नुकसान काफी कम होता. 20 साल बाद इसे लागू गया है.

READ More...  अटल स्मारक पहुंचकर राष्ट्रपति कोविंद और पीएम मोदी ने दी ‘भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी’ को श्रद्धांजलि

CDS के पास होंगे ये पावर
>> सीडीएस रक्षा मंत्री के लिए प्रधान सैन्य सलाहकार की भूमिका निभाएंगे. तीनों सेनाओं के प्रमुख भी अपनी-अपनी सेनाओं से संबंधित सलाह रक्षा मंत्री को पहले की तरह ही देते रहेंगे.

>> सीडीएस के पास तीनों सैन्य प्रमुखों समेत कोई मिलिट्री कमांड नहीं होगा. सीडीएस तीनों सेनाओं के विभिन्न संगठनों का प्रशासक होगा.

>>सीडीएस संबंधित अथॉरिटी को तीनों सेनाओं की समेकित जानकारियां उपलब्ध कराएगा. वह डिफेंस ऐक्विजीशन काउंसिल और डिफेंस प्लानिंग काउंसिल के सदस्य होगा.

>> पहला सीडीएस अपना कार्यभार संभालने के तीन वर्षों के अंदर तीनों सेनाओं के अंदर ऑपरेशन, लॉजिस्टिक्स, ट्रांसपोर्ट, ट्रेनिंग, सपॉर्ट सर्विस, कम्यूनिकेशन, रिपेयर्स के बीच तालमेल बनाए रखने का काम करेगा.

>> सीडीएस मिलिट्री इन्फ्रास्ट्रक्चर का समुचित उपयोग सुनिश्चित करेगा और इसे रैशनलाइज भी करेगा. सीडीएस की जिम्मेदारी स्वदेशी औजारों की हिस्सेदारी बढ़ाना भी है.

>>अनुमानित बजट के मुताबिक सेनाओं के अंदर कैपिटल एक्विजीशन के प्रस्तावों की प्राथमिकता तय करना भी सीडीएस की जिम्मेदारी है.

>>सीडीएस औपनेविशक विरासत में मिले कुछ प्रक्रियाओं की पहचान कर उसे दूर करेगा. रैंक और फाइल में विश्वास और भरोसा पैदा करेगा.

कई देशों के पास CDS सिस्टम
अमेरिका, चीन, यूनाइटेड किंगडम, जापान सहित दुनिया के कई देशों के पास चीफ ऑफ डिफेंस जैसी व्यवस्था है. नॉटो देशों की सेनाओं में ये पद हैं. बताया जा रहा है कि विस्तृत भूमि, लंबी सीमाओं, तटरेखाओं और राष्ट्रीय सुरक्षा की चुनौतियों को सीमित संसाधनों से निपटने के लिए भारत के पास एकीकृत रक्षा प्रणाली के लिए चीफ ऑफ डिफेंस पद की बहुत जरूरत थी.