बैल के साथ गाड़ी खींच रहा युवक, जानिये क्यों,आपको बेचैन कर देगी कोविड काल की बेबसी की यह तस्वीर

0
40
कोरोना काल में राजस्थान के भरतपुर जिले में सामने आयी बेबसी की यह तस्वीर दिल को झकझोरकर रख देने वाली है. इसका कारण जानकार आप भी हैरान रह जायेंगे.

भरतपुर. आज पूरा विश्व कोरोना की मार को झेल रहा है. कोरोना ने देश और दुनिया को ऐसा दंश दिया है कि कोई भी इससे बच नहीं पा रहा है. कोई कोरोना से पीड़ित है तो कोई इससे उपजे हालात से. कोरोना से एक- दो तरफा नहीं बल्कि चौतरफा मार पड़ी है. कोरोना के इस दौर में देश-दुनिया में छाया आर्थिक संकट भी किसी से छिपा हुआ नहीं है. लेकिन इस संकट की एक ऐसी भयावह तस्वीर राजस्थान में सामने आई है जिसे देखकर बेचैनी होने लगती है.

भरतपुर के भुसावर कस्बे में नजर आया यह दृश्य
यह तस्वीर है राजस्थान के भरतपुर जिले के भुसावर कस्बे की. यहां स्टेट मेगा हाइवे नंबर- 45 पर छौंकरवाड़ा सड़क मार्ग पर इस दृश्य को देखकर हर कोई ठिठक गया. यहां गाड़िया लौहार परिवार का एक युवक अपने एक बैल के साथ उसका हमराह बनकर स्वयं बैलगाड़ी से जुता हुआ था. इस गाड़ी को युवक और बैल मिलकर खींच रहे थे. बैल के जोड़ीदार बैल का काम यह युवक कर रहा था. इस गाड़ी को पीछे से युवक के परिजन भी धक्का देकर युवक और बैल की सहायता कर रहे थे.

एक बैल की मृत्यु हो गयी है. दूसरा खरीदने को पैसे नहीं हैं
जब इस युवक से इसका कारण पूछा तो उसने बड़ी मायूसी से जो जबाब दिया वह हिलाकर रख देने वाला था. युवक ने बताया कि उसके एक बैल की मृत्यु हो गयी है. दूसरा खरीदने को पैसे नहीं हैं. इसलिए वह स्वयं बैलगाड़ी में लगकर उसे खींचने लग गया. कोरोना महामारी के कारण उपजे हालत की तस्वीर यह बताने के लिये काफी है कि हालात कहां से कहां पहुंच गये और कितने भयावह हो गये हैं. शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में चौपट हो चुके रोजगार के कारण लोग हाल-बेहाल हैं. परिवार के पेट की आग को शांत करने के लिये लोग हर जोखिम उठाने को तैयार हैं.

READ More...  नागौर में बस के आगे सांड आने से बड़ा हादसा, 12 लोगों की मौत, 12 घायल