सीएम केजरीवाल का आरोप- बेड की ‘कालाबाजारी’ कर रहे हैं प्राइवेट हॉस्पिटल, सभी कोरोना मरीजों का इलाज करना पड़ेगा

0
81

नई दिल्ली : कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण की रोकथाम के लिए दिल्ली सरकार (Delhi Govt.) लगातार प्रयास कर रही है. इसी क्रम में आज मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने दोटूक लहजे में कहा कि दिल्ली के प्राइवेट अस्पतालों (Private Hospital) को कोरोना मरीजों का इलाज करना ही होगा. उन्होंने चेतावनी दी कि इलाज से इनकार करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी. दिल्ली के प्राइवेट अस्पतालों द्वारा मरीजों को एडमिट करने के नाम पर पैसा वसूली के मामले सामने आने के बाद सीएम ने ये चेतावनी दी है. सीएम ने कहा कि ऐसे कुछ ही अस्पताल हैं, जो इस तरह के काले कारोबार में लगे हैं. अधिकतर निजी अस्पताल सही तरीके से काम कर रहे हैं.

हर प्राइवेट अस्पताल में नियुक्त होगा दिल्ली सरकार का एक प्रतिनिधि

दिल्ली सरकार का एक प्रतिनिधि हर प्राइवेट अस्पताल में नियुक्त किया जाएगा, जो वहां उपलब्ध बेड के बारे में जानकारी सरकार को देगा. अगर किसी अस्पताल ने बेड के बारे में लोगों को गलत जानकारी दी तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी.

सीएम ने यह भी कहा कि कोरोना संदिग्ध मरीज के इलाज से भी अस्पताल इनकार नहीं कर सकते. उन्होंने कहा कि अगर कोई अस्पताल जांच के नाम पर मरीजों के इलाज से इनकार करता है. मरीजों को खुद ही टेस्ट कराने को कहता है, तो इस पर कार्रवाई होगी. अगर कोरोना का संदिग्ध मरीज प्राइवेट अस्पताल पहुंचता है, तो उसका टेस्ट कराने और इलाज करने की जिम्मेदारी भी अस्पताल की ही होगी. कोई भी निजी अस्पताल अपनी इस जिम्मेदारी से इनकार नहीं कर सकता.

दिल्ली सरकार के एप से परेशान हैं माफिया

सीएम केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली के अस्पतालों में बेड, वेंटिलेटर आदि की जानकारी के लिए बीते मंगलवार को सरकार ने मोबाइल एप लॉन्च किया है. इस एप के जरिए कोरोना के मरीजों को अस्पताल और उनमें उपलब्ध बेड के बारे में जानकारी मिल जाती है.

READ More...  पति से तलाक होने तक लिव-इन में रहूंगी, प्रेमी के घर पर मिली 3 दिन से लापता पूर्व प्रधान

मंगलवार को एप लॉन्च होने के बाद दिल्ली में प्राइवेट अस्पताल चलाने वाले माफिया परेशान हो गए हैं. वे जान-बूझकर कोरोना मरीजों का इलाज करने से इनकार कर रहे हैं या उनसे ज्यादा पैसे ले रहे हैं. बीते दिनों मीडिया में ज्यादा पैसे लेकर अस्पताल में भर्ती करने वाली खबरों को लेकर सीएम केजरीवाल ने कहा कि सभी प्राइवेट अस्पताल खराब नहीं हैं, कुछ ही ऐसे हैं जो कोरोनाकाल में दिल्ली की छवि खराब कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि दिल्ली सरकार ऐसे अस्पतालों की जांच करा रही है, उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी.

अस्पतालों की लिस्ट बना रही सरकार

CM केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली सरकार के मोबाइल एप पर सभी अस्पतालों में उपलब्ध बेड की जानकारी है. इस एप को अस्पताल ही अपडेट करते हैं, सरकार नहीं करती. इससे लोगों को सुविधा मिल रही है, लेकिन चंद प्राइवेट अस्पताल इससे परेशान हैं. सीएम ने अस्पतालों को चेतावनी देते हुए कहा कि दिल्ली में जो अस्पताल खोले गए हैं, वे मरीजों की सेवा के लिए खोले गए हैं न कि कमाई करने के लिए. मैं ऐसे सभी अस्पतालों को साफ कहना चाहता हूं कि कोरोना के मरीज को भर्ती करना ही पड़ेगा.

दिल्ली सरकार ऐसे अस्पतालों की लिस्ट बनाकर उनके मालिकों से बात कर रही है. उनसे साफ कहा जा रहा है कि प्राइवेट अस्पतालों में 20 प्रतिशत बेड कोरोना मरीजों के लिए रखने ही पड़ेंगे. अगर किसी अस्पताल को समस्या है, तो हम उसकी भी सुनेंगे, लेकिन कोरोना के मरीजों का इलाज करने को लेकर कोई समझौता नहीं किया जाएगा.