ये हैं संविधान की दुहाई देने वाले- राम मंदिर पर AIMPLB और ओवैसी के बयान पर मंत्री मोहसिन रजा का पलटवार

0
195
योगी सरकार में मंत्री मोहसिन रजा ने कहा कि देश में संविधान की दुहाई देने वाले नेता आज संविधान पर सवाल उठा रहे हैं? ये नेता आज देश का माहौल खराब करने की कोशिश कर रहे हैं.

लखनऊ.  अयोध्या में राम मंदिर को लेकर ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड और एआईएमआईएम के सांसद असदुद्दीन ओवैसी के बयान के बाद बवाल मचा हुआ है. दरअसल अयोध्या में भूमिपूजन पर मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने कहा है कि बाबरी मस्जिद कल भी थी, आज भी है और कल भी रहेगी. हागिया सोफिया इसका बेहतरीन उदाहरण है. मस्जिद में मूर्तियां रख देने, पूजा-पाठ शुरू कर देने या एक लंबे अर्से तक नमाज पर पाबंदी लगा देने से मस्जिद की हैसियत खत्म नहीं हो जाती.

देश का माहौल खराब करने की कोशिश कर रहे: मोहसिन रजा

मामले में योगी सरकार में मंत्री मोहसिन रजा ने कहा कि देश में संविधान की दुहाई देने वाले नेता आज संविधान पर सवाल उठा रहे हैं? ये नेता आज देश का माहौल खराब करने की कोशिश कर रहे हैं. ये ही नेता पिछले साल 9 नवंबर को फैसला आने से पहले जब इनसे कहा जाता था कि बैठकर बात कर लीजिए तो ये कहते थे कि नहीं, हमें तो वही फैसला मंजूर होगा, जो माननीय न्यायालय से आएगा. अब जब पिछले साल 9 नवंबर को सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुना दिया और उस फैसले को देश की जनता ने सौहार्दपूर्ण माहौल में स्वीकार किया. उसी फैसले के क्रम में अगर अयोध्या में लेकर कोई काम शुरू हुआ तो उस काम को लेकर फिर आज आप उंगली उठा रहे हैं. संविधान पर उंगली उठा रहे हैं, उस फैसले पर उंगली उठा रहे हैं, देश में सौहार्द का माहौल खराब कर रहे हैं.

READ More...  हाथ खड़े कर दिए थे जल्लादों ने भी क्रांतिकारी मंगल पांडे को फांसी देने के लिए

इस तरह की टिप्पणी करेगा तो वो राष्ट्रद्रोही

मोहसिन रजा ने पूछा कि आप करना क्या चाहते हैं? उन्होंने कहा कि ऐसी शक्तियों से कहना चाहता हूं कि आप 130 करोड़ लोगों के नुमाइंदे नहीं हैं, आप मुसलमानों को रिप्रेजेंट नहीं करते. आपकी व्यक्तिगत सोच हो सकती है लेकिन सभी लोगों ने देश के सर्वोच्च न्यायालय के फैसले को कुबूल किया है और उसके तहत अगर कोई काम हो रहा है, उसमें कोई भी इस तरह की टिप्पणी करेगा तो वो राष्ट्रद्रोही भी होगा और देशद्रोही भी.

जफरयाब जिलानी बोले…

उधर इस ट्वीट पर देश भर में तरह-तरह की प्रतिक्रियाएं आ रही हैं. अब बोर्ड के वरिष्ठ सदस्य जफरयाब जिलानी का बयान आया है. जफरयाब जिलानी ने कहा कि एआईएमपीएलबी के ट्वीट के कुछ शब्दों पर आपत्ति है. बोर्ड से ट्वीट हटाने के लिए कहा गया है. उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट से ऊपर कोई नहीं हो सकता.