24 घंटे में कोरोना के 3525 नए केस और 122 मरीजों की मौत, कुल आंकड़ा 75 हजार के करीब

0
44

नई दिल्ली : देश में कोरोना वायरस का कहर जारी है. लॉकडाउन के 50वें दिन कुल मामलों की संख्या 75 हजार के करीब हो गई है. बीते 24 घंटे में कोरोना के 3525 नए केस मिले हैं और 122 मरीजों की मौत हुई है. स्वास्थ्य मंत्रालय के ताजा अपडेट के मुताबिक, देश में अब तक कोरोना के 74281 केस आ चुके हैं. इनमें 47480 एक्टिव केस हैं. कोरोना से अब तक 2415 मरीजों की जान जा चुकी है. इस वायरस के संक्रमण से मौत की दर 3.2% है. वहीं रिकवरी रेट 31.74% है.

महाराष्ट्र में कोरोना मामलों की संख्या 25 हजार के करीब है. इनमें से 18,381 केस एक्टिव हैं. यहां कोरोना से अब तक 921 लोगों की जान चली गई है और 5125 लोग ठीक होकर घर लौट चुके हैं. महाराष्ट्र के बाद कोरोना का सबसे ज्यादा कहर गुजरात झेल रहा है. यहां संक्रमितों की संख्या तेजी से बढ़ रही है. गुजरात में अभी 5121 एक्टिव केस हैं. गुजरात में कोरोना से 537 लोगों की मौत हो चुकी है. 3246 लोग या तो स्वस्थ हो चुके हैं या फिर उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है.

दिल्ली में भी कोरोना के संक्रमण का मामला बढ़ रहा है. राजधानी में कोरोना वायरस के अब तक 7639 मामले आ चुके हैं. कोविड-19 महामारी से जहां 86 लोगों की मौत हो चुकी है, वहीं 2512 लोग पूरी तरह से स्वस्थ हो चुके हैं.

अब तक किस राज्य में कितनी मौतें?

स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, कोरोना से महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा 868 लोगों की मौत हुई है. इसके अलावा गुजरात में 513, मध्य प्रदेश में 221, पश्चिम बंगाल में 190, राजस्थान में 113, दिल्ली में 73, उत्तर प्रदेश में 80, आंध्र प्रदेश में 45, तमिलनाडु में 53, तेलंगाना में 30, कर्नाटक में 31, पंजाब में 31, जम्मू-कश्मीर में 10, हरियाणा में 11, बिहार में 6, केरल में 4, झारखंड में 3, ओडिशा में 3, चंडीगढ़ में 2, हिमाचल प्रदेश में 2, असम में 2, और मेघालय में एक मौत हुई है.

READ More...  पुलिसकर्मियों में आत्महत्या की घटनाएं रोकने के लिए सीएम गहलोत ने दिया 'हीलिंग टच' फार्मूला

अब तक हुए कुल 17,62,840 टेस्ट
स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, सोमवार तक 2.37% मरीज आईसीयू में थे, जबकि 0.41% वेंटिलेटर और 1.82% ऑक्सीजन सपोर्ट पर. भारत में इस समय 347 सरकारी लैब और 137 प्राइवेट लैब है जहां कोरोना का टेस्ट हो सकता है. अब तक कुल 17,62,840 टेस्ट किए का चुके है. भारत में अब रोज़ाना एक लाख टेस्ट करने की क्षमता है.