केन्द्र सरकार ने मानी राजस्थान सरकार की यह बड़ी मांग, अब रेडियो से पढ़ सकेंगे स्टूडेंट्स

0
120

जयपुर : कोरोना संकट के बीच राजस्थान के सरकारी स्कूलों के स्टूडेंट्स के लिए बड़ी खुशखबरी है. केंद्र सरकार ने राज्य के शिक्षा राज्यमंत्री गोविंद सिंह डोटासरा की ओर से सरकारी स्कूलों के स्टूडेंट्स की पढ़ाई के लिए की गई बड़ी मांग को स्वीकार कर लिया है. केन्द्र सरकार ने डोटासरा की रेडियो के माध्यम से स्टूडेंट्स की पढ़ाई के लिए ‘फ्री’ टाइम स्लॉट देने की मांग मान ली है. अब स्कूली स्टूडेंट्स अगले 51 दिनों तक प्रतिदिन 55 मिनिट सीधे रेडियो के माध्यम से पढ़ाई कर सकेंगे. प्रदेश का शिक्षा विभाग आकाशवाणी को इसके लिए कंटेंट उपलब्ध कराएगा.

शिक्षा विभाग के साथ आकाशवाणी करेगा एमओयू साइन
राज्य सरकार ने जब कोरोना संकट के बीच ऑनलाइन शिक्षा के लिए ‘स्माइल’ प्रोग्राम की शुरुआत की तो ग्रामीण इलाकों के स्टूडेंट्स के सामने अजीबो गरीब स्थिति पैदा हो गई थी. प्रदेश के लाखों छात्रों के पास न तो एंड्रॉयड फोन था और ना ही दूर दराज के ग्रामीण इलाकों में इंटरनेट की सुविधा. सरकार ने फिर भी व्हाट्सएप और यूट्यूब के जरिये शिक्षकों से पढ़ाई शुरू करवायी. उसके नतीजे तो अच्छे आये लेकिन दूर दराज के गरीब छात्र कनेक्टिविटी और स्मार्टफोन के अभाव में ठीक से इस प्रोग्राम से जुड़ नहीं जुड़ पाए. विभाग इसके जरिये अपने उद्देश्य को पूरा नहीं कर पा रहा था. लिहाजा शिक्षा विभाग ने दूरदर्शन और आकाशवाणी के जरिये अपना मकसद पूरा करने की कार्ययोजना तैयार की.

शिक्षा राज्यमंत्री गोविंद डोटासरा ने रखी थी केन्द्र के समक्ष यह मांग
इस पर शिक्षा राज्यमंत्री गोविंद डोटासरा ने सूचना-प्रसारण एवं मानव संसाधन विकास मंत्री के सामने इस मुद्दे को उठाया और सरकारी स्कूल के स्टूडेंट्स की पढ़ाई से लिए दूरदर्शन और आकशवाणी पर ‘फ्री’ टाइम स्लॉट मुहैया करवाने की मांग रखी. इसमें राज्य सरकार 50 फीसदी सफलता मिल गई है. केन्द्र इसके तहत रेडियो पर ‘फ्री’ टाइम स्लॉट देने के लिए तैयार हो गया है. इसको लेकर बीजेपी के प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया ने भी केंद्र सरकार को पत्र लिखा था.
READ More...  उदयपुर: चलती कार में अचानक लगी भीषण आग, देखते ही देखते कुछ मिनटों में हुई जलकर राख