Delhi Elections 2020: चुनाव आयोग ने किया ऐलान- दिल्‍ली में 8 फरवरी को वोटिंग और 11 को रिजल्‍ट

0
165

नई दिल्ली : मुख्‍य चुनाव आयुक्‍त सुनील अरोड़ा ने दिल्ली विधानसभा चुनावों (Delhi Assembly Election Dates) की तारीखों का ऐलान कर दिया है. केंद्रशासित प्रदेश में 8 फरवरी को वोटिंग होगी. वहीं, 11 फरवरी को चुनाव के नतीजे आ जाएंगे. चुनाव आयोग (Election Commission) की प्रेस कांफ्रेंस जारी है. आयोग ने कहा कि दिल्‍ली में चुनाव की तैयारी पूरी हो गई है. चुनाव में 90 हजार कर्मचारियों की जरूरत होगी. दिल्‍ली विधानसभा की सभी 70 सीटों के लिए चुनाव होगा. दिल्‍ली में कुल 1.46 करोड़ मतदाता हैं. बुजुर्ग मतदाता पोस्‍टल बैलेट से मतदान में हिस्‍सा ले सकेंगे. राज्‍य में 2,689 जगहों पर वोटिंग होगी.

चुनाव घोषणा के साथ ही दिल्‍ली में आदर्श आचार संहिता (Code of Conduct) लागू हो गई है. चुनाव आयोग ने बताया कि नामांकन प्रक्रिया 14 से 21 जनवरी तक चलेगी. नामांकन वापस लेने की अखिरी तारीख 24 जनवरी तय की गई है. 70 सदस्यीय दिल्ली विधानसभा का कार्यकाल 22 फरवरी को समाप्त होगा. नियमानुसार उससे पहले ही चुनाव संपन्न कराकर नई विधानसभा का गठन करना होगा.

पांच साल की उपलब्धियों को लेकर जनता के पास जाएंगे केजरीवाल
AAP ने इस बार दिल्ली के लोगों के बीच केजरीवाल सरकार की पांच साल की उपलब्धियों को रखा है. आगामी विधानसभा चुनाव के लिए पार्टी की ओर से नया नारा जारी किया गया है. आप चुनाव में ‘अच्छे बीते 5 साल, लगे रहो केजरीवाल’ नए नारे के साथ मैदान में उतरेगी.

दिल्ली में पार्टी की ओर से ‘केजरीवाल फिर से’ नारे के साथ जमकर प्रचार-प्रसार किया जा रहा है. इसी नारे के साथ AAP ने दिल्ली में कई जगह पोस्टर भी लगवाए हैं और केजरीवाल सरकार के कामकाज गिना रहे हैं. अरविंद केजरीवाल पिछले पांच साल से दिल्ली की सत्ता पर काबिज हैं. इसकी नारे के साथ आम आदमी पार्टी जनता के बीच जाएगी.

पीएम मोदी के नाम पर ही चुनाव लड़ेगी बीजेपी
बीजेपी (BJP) ने दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020 में जीत का वनवास खत्म करने के लिए चुनावी तैयारी शुरू कर दी है. ‘दिल्ली चले मोदी के साथ- 2020’ के नारे के साथ बीजेपी दिल्ली विधानसभा का चुनाव लड़ेगी. बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह दिल्ली के इंदिरा गांधी इनडोर स्टेडियम में बूथ सम्मेलन में बूथ कार्यकर्ताओं को चुनाव जीतने का मंत्र देंगे. इस सम्मेलन में दिल्ली बीजेपी के 30 हजार से ज्यादा बूथ कार्यकर्ताओं के शामिल होने का दावा किया गया है.

मौजूदा विधानसभा में किसके-कितने विधायक?
70 सदस्‍यीय दिल्‍ली विधानसभा में आम आदमी पार्टी (AAP) के 62 विधायक और BJP के 4 विधायक हैं. बाकी सीटें अन्‍य दलों और निर्दलीयों के पास हैं. इस समय आप के अरविंद केजरीवाल राज्‍य के मुख्‍यमंत्री और मनीष सिसोदिया उपमुख्‍यमंत्री हैं. राज्य में पिछली बार 7 फरवरी, 2015 को विधानसभा चुनाव हुए थे. मौजूदा विधानसभा का कार्यकाल 22 फरवरी 2020 को पूरा हो रहा है.

बता दें कि दिल्‍ली विधानसभा का गठन पहली बार 7 मार्च, 1952 को हुआ था. उस समय इसके सदस्‍यों की संख्‍या 48 थी. हालांकि, 1956 में राज्‍य पुनर्गठन आयोग की सिफारिशों के लागू होने के बाद इसे केंद्रशासित प्रदेश बना दिया गया. मंत्रिपरिषद भी खत्‍म कर दिया गया. इसके बाद विधानसभा की जगह दिल्‍ली मेट्रोपॉलिटन काउंसिल ने ले ली. आखिरकार 1991 में काउंसिल की जगह फिर से दिल्‍ली विधानसभा बनी.

दिल्ली में कब हुए थे पहली बार चुनाव?
दिल्ली में पहली बार 1993 में विधानसभा चुनाव हुए थे. तब बीजेपी जीतकर सत्ता पर काबिज हुई थी, लेकिन पांच साल के कार्यकाल में बीजेपी को अपने तीन मुख्यमंत्री मदनलाल खुराना, साहेब सिंह वर्मा और सुषमा स्वराज बदलने पड़े थे. ये तीनों अब इस दुनिया में नहीं हैं.