दिल्ली चुनाव: सभी 70 सीटों पर वोटिंग आज, AAP-BJP और कांग्रेस में है टक्कर

0
193

नई दिल्ली: दिल्ली विधानसभा की सभी 70 सीटों के लिए शनिवार 8 फरवरी को मतदान होगा. वोटिंग सुबह 8 बजे शुरू होगी और शाम 6 बजे तक चलेगी. मतदान के लिए 15,750 मतदान केंद्र बनाए गए हैं. जहां दिल्ली के एक करोड़ 47 लाख 86 हजार 389 वोटर अपने लिए विधायक और नई सरकार चुनेंगे. दिल्ली में सत्ता के लिए मुख्य रूप से आम आदमी पार्टी , बीजेपी और कांग्रेस  में मुकाबला है.

राजधानी में शनिवार को होने वाले विधानसभा चुनाव के मद्देनजर दिल्ली पुलिस ने सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए हैं. अधिकारियों ने बताया कि दिल्ली में करीब 40,000 सुरक्षाकर्मियों, होमगार्ड के 19,000 जवानों और केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल (CRPF) की 190 कंपनियां तैनात की गई हैं. उत्तराखंड, हरियाणा और उत्तर प्रदेश से बुलाए गए होमगार्ड के जवान मतदान केंद्रों पर सुरक्षा में स्थानीय पुलिस की मदद करेंगे.

504 गैरकानूनी हथियार जब्त
पुलिस ने बताया कि आचार संहिता लागू होने के कारण विशेष अभियान के तहत 99,210 लीटर अवैध शराब, 774.1 किलो मादक पदार्थ जब्त किया गया है. इसके अलावा 504 गैरकानूनी हथियार जब्त किए गए हैं और 7,397 लाइसेंसी हथियार एहतियाती तौर पर जमा करवा लिए गए हैं.

सोशल मीडिया पर भी नजर
पुलिस ने मीडिया (Media) को बताया कि मतदान परिसरों की सुरक्षा और ईवीएम की आवाजाही के लिए सीएपीएफ के 190 जवानों को शामिल किया गया है. साथ ही लगभग 40,000 कर्मियों को विशिष्ट स्पेशल इलेक्शन ड्यूटी पर तैनात किया गया है. इसके अलावा, 19,000 होमगार्ड मतदान केंद्रों की सुरक्षा सुनिश्चित करने में स्थानीय पुलिस की मदद करेंगे.

अतिरिक्त सुरक्षाबल भी तैनातवहीं ईवीएम, महत्वपूर्ण बूथों और मतगणना केंद्रों की सुरक्षा को बढ़ाने के लिए अतिरिक्त बल भी तैनात किए गए हैं. दिल्ली में 2689 मतदान परिसर (545 संवेदनशील) और 21 मतगणना केंद्र हैं, जिन्हें मल्टी लेवल सुरक्षा दी गई है. पुलिस का दावा है कि वो सेंसटिव पोलिंग बूथ पर मतादाताओं के सुगम आवागमन के लिए हरसंभव सावधानी बरतेगी.

READ More...  हिना खान को परेशान करता था लड़का, भेजता था वीडियो, कहता था- 'मैं आ रहा हूं'

संवेदनशील क्षेत्रों पर विशेष ध्यान
निगरानी दल और उड़न दस्ते तैनात किए गए हैं. पुलिस ने साफ किया कि पैसे, बाहुबल या अन्य गैरकानूनी तरीकों से वोटर को प्रभावित करने के किसी भी प्रयास की जांच के लिए संवेदनशील क्षेत्रों में विशेष जांच अभियान चलाए जा रहे हैं. मतदान अधिकारियों के साथ ईवीएम परिवहन ड्रिल का प्लान भी बनाया गया है.