डीजल के बढ़ते दामों ने तो़ड़ी जनता की कमर राजस्थान में, जानें आज के रेट?

0
24

जयपुर: रविवार अवकाश के दिन आज फिर फ्यूल में दामों में इजाफा हुआ है. पेट्रोल के दाम स्थिर हैं लेकिन डीजल के दामों में 12 पैसे प्रति लीटर की बढोतरी दर्ज की गई है.

इस बढ़ोतरी के साथ जयपुर में एक लीटर डीजल की कीमत 81.67 रुपये प्रति लीटर और पेट्रोल की कीमत 87.57 रुपये प्रति लीटर हो गई है.

राजस्थान में महंगा हुआ पेट्रोल-डीजल, जानिए वजह और नई कीमतें

लॉकडाउन में ढील मिलने के बाद ही अब पेट्रोल और डीजल की कीमतों में आग लग गई है. राजस्थान में पेट्रोल के दामों में खासी बढ़ोतरी हुई है. इसकी वजह क्रूड आयल कीमतों में तेजी नहीं बल्कि राजस्थान सरकार की ओर से बढ़ाई गई वैट की राशि है. राजस्थान सरकार के ईंधन पर वैट (मूल्य वर्द्धित कर) बढ़ाने के बाद जयपुर में पेट्रोल 1.12 रुपये और डीजल 0.53 पैसे प्रति लीटर महंगा हो गया. लॉकडाउन में तीसरी बार पेट्रोल-डीजल पर वैट बढ़ाया गया है.

अब राजस्थान 8 मई को एक लीटर पेट्रोल 77.82 रुपये का होगा. इसी तरह डीजल की नयी कीमत 70.35 रुपये प्रति लीटर होगी. राजस्थान सरकार ने पेट्रोल पर वैट को 2 प्रतिशत और डीजल पर 1 प्रतिशत वैट बढ़ाया है. जिसके बाद पेट्रोल पर अब वैट 36 से बढ़कर 38 % हो गया है. डीजल पर अब वैट 27 से बढ़कर 28% हो गया है.

आपको बता दें कि इससे पहले 21 मार्च को भी 4-4 % वैट पेट्रोल-डीजल पर बढ़ाया  गया था. उसके बाद 15 अप्रैल को फिर 2% पेट्रोल और 1%डीजल पर वैट बढ़ाया गया था. लॉकडाउन में सरकार आर्थिक संकट से झूझ रही है.

READ More...  राजस्थान कोरोना की जांच में यूपी-हरियाणा समेत सभी पड़ोसी राज्यों की मदद करेगा राजस्थान, बना ये खास प्लान

दरअसल, कोरोना वायरस का प्रकोप पूरी दुनिया में बना हुआ है. इस बीच अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के साथ कच्चे तेल के दामों में थोड़ा उछाल देखने को मिल रहा है. डीजल के भाव का सीधा असर ट्रांसपोर्ट पर पड़ रहा हैं. ट्रांसपोटर्स नई दरों के हिसाब से भाड़ा वसूल रहे हैं.

 लॉकडाउन के चलते राजस्थान में पेट्रोल-डीजल कंपनियों को 2543 करोड़ का घाटा

रोज बढ़ते डीजल के दाम ने संचालकों की मुश्किलें भी बढ़ा रखी हैं क्योंकि भाड़े को लेकर रोजाना संचालकों की व्यापारी और कंपनियों से वाद-विवाद की स्थिति बन रही है. भाड़ा बढ़ने से आने वाले दिनों में रोजमर्रा की वस्तुएं भी महंगी हो रही हैं. ईंधन की कीमतें बढ़ने के कारण हर वर्ग की जेब पर असर पड़ रहा है.