दे दिया गुंडा राज! गाजियाबाद में पत्रकार की गोली मारकर हत्या पर बोले राहुल- वादा था रामराज का

0
64

उत्तर प्रदेश स्थित गाजियाबाद में बदमाशों के गोली मारने से गंभीर रूप से घायल गाजियाबाद के पत्रकार विक्रम जोशी  की मौत हो गई.

नई दिल्ली. उत्तर प्रदेश स्थित गाजियाबाद में बदमाशों के गोली मारने से गंभीर रूप से घायल गाजियाबाद के पत्रकार विक्रम जोशी की बुधवार तड़के मौत हो गई. पत्रकार के परिवार ने यह जानकारी दी. जोशी को कुछ बदमाशों ने सिर में गोली मार दी थी.

इस घटना पर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट कर राज्य की कानून व्यवस्था पर निशाना साधा है. राहुल ने लिखा कि – ‘वादा था राम राज का, दे दिया गुंडाराज.’ राहुल ने एक ट्वीट में कहा- ‘अपनी भांजी के साथ छेड़छाड़ का विरोध करने पर पत्रकार विक्रम जोशी की हत्या कर दी गयी. शोकग्रस्त परिवार को मेरी सांत्वना. वादा था राम राज का, दे दिया गुंडाराज.’

अधिकारियों ने बताया कि जोशी ने 16 जुलाई को अपनी एक रिश्तेदार के साथ छेड़छाड़ किए जाने के आरोप में पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी. जोशी को विजय नगर इलाके में उनके घर के पास सोमवार रात करीब साढ़े 10 बजे गोली मारी गई थी.

जोशी के परिवार के एक सदस्य ने कहा, ‘हां, वह (विक्रम जोशी) अब जीवित नहीं हैं. जोशी ने अस्पताल में उपचार के दौरान सुबह करीब चार बजे दम तोड़ दिया.’ एक स्थानीय समाचारपत्र के पत्रकार जोशी को एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था. पुलिस ने बताया कि इस मामले में अभी तक नौ लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है.

पहले की थी मारपीट

सीसीटीवी फुटेज में दिख रहा है कि करीब 5-6 बदमाशों ने पहले विक्रम जोशी को घेरा और फिर उनके साथ मारपीट की. बाद में विक्रम जोशी को गोली मारकर फरार हो गए.  पास में मौजूद बिटिया मदद की गुहार लगाती रही, लेकिन मदद नहीं मिली. यह पूरी वारदात सीसीटीवी में कैद हो गई. अब पुलिस इस सीसीटीवी फुटेज के आधार पर आरोपियों की तलाश कर रही है. दरअसल, कुछ दिन पहले भी विक्रम जोशी ने थाना विजय नगर में एक तहरीर दी थी, जिसमें उन्होंने बताया था कि कुछ लड़के उनकी भांजी के साथ छेड़खानी करते हैं. इसका उन्होंने विरोध भी किया था, जिसका नतीजा सोमवार शाम को जब विक्रम जोशी कहीं जा रहे थे, तभी इन बदमाशों ने आकर उन पर हमला कर दिया और गोली मार दी.

READ More...  जानिए दुनिया के बड़े शहरों ने कैसे किया वायु प्रदूषण पर काबू, शहर की आबोहवा हुई शुद्ध