गांधी परिवार को साधने की कोशिश में जुटे सचिन पायलट , अशोक गहलोत को बताया ‘गुनहगार

0
58

नई दिल्ली. राजस्थान (Rajasthan) में जारी सियासी घमासान के बीच सचिन पायलट (Sachin Pilot) के एक बयान से ऐसा लग रहा मानो वो गांधी परिवार से दोबारा संपर्क बनाने की कोशिश में जुट गए हुए हैं. दरअसल, राजस्थान के उपमुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पद से बर्खास्त होने के अगले दिन यानी बुधवार को सचिन पायलट ने कहा- ‘मैं आज भी कांग्रेसी ही हूं’. पायलट ने इसके साथ ही जोर देते हुए ये कहा कि उनके बीजेपी (BJP) में शामिल होने की अटकलें दरअसल गांधी परिवार से उनके रिश्ते बिगाड़ने की कोशिशों के तहत खड़ी की गईं.

न्यूज एजेंसी PTI से बातचीत करते हुए पायलट ने कहा कि राजस्थान के ही कुछ नेता पार्टी हाई कमान के बीच उनकी छवि धूमिल करने की कोशिश कर रहे हैं. सचिन पायलट का ये बयान ऐसे वक्त में आया है जब कांग्रेस ने उन्हें पार्टी विरोधी गतिविधियों के लिए  एक्शन लेना शुरू कर दिया. कांग्रेस ने पायलट को एक कारण बताओ नोटिस भेजा है, जिसमें उनसे पूछा गया है कि क्यों उन्हें विधायक के तौर पर अयोग्य घोषित नहीं किया जाए? इसका जवाब देने के लिए पायलट को 17 जुलाई का वक्त दिया गया है. हालांकि इससे पहले ही पायलट से कांग्रेस ने सभी पद छीन लिए हैं. इन सबके बीच गौर करने वाली बात ये भी है कि पायलट ने बीजेपी में शामिल होने की घोषणा नहीं की है.

कांग्रेस ने छीने सचिन पायलट के पद
कांग्रेस एक तरफ सचिन पायलट से जवाब मांग रही है तो दूसरी तरफ पार्टी उनसे राजस्थान के उपमुख्यमंत्री का पद, कांग्रेस की प्रदेश इकाई का प्रमुख पद भी छीन लिया गया है. कांग्रेस के इस कदम के बाद पायलट ने अपनी प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए ट्विटर पर लिखा था, ‘सत्य परेशान हो सकता है लेकिन पराजित नहीं’.

READ More...  जामिया यूनिवर्सिटी में हुई हिंसा में 2 करोड़ से ज्यादा का नुकसान, जामिया यूनिवर्सिटी प्रशासन ने MHRD को सौंपा बिल

उधर कांग्रेस महासचिव और राजस्थान के प्रभारी अविनाश पांडे (Avinash Pande) ने कहा कि अगर प्रदेश के पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट (Sachin Pilot) अपनी गलतियों के लिए माफी मांग लें तो बात बन सकती है, लेकिन हर चीज की समयसीमा होती है.

झटके के ऊपर झटका
वहीं गृह विभाग के सूत्रों के अनुसार राज्य सरकार सचिन पायलट की जेड श्रेणी की सुरक्षा वापस ले सकती है. उच्च स्तर पर मंथन चल रहा है. हालांकि अंतिम निर्णय मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की अध्यक्षता में गठित कमेटी ही करेगी. कमेटी की अनुशंसा पर ही विभाग जेड श्रेणी की सुरक्षा वापस लेगा.