CM गहलोत के पास पहुंचे MLA, निकाय चुनावों में टिकट वितरण से पहले कांग्रेस में घमासान

0
24

निकाय चुनाव में जयपुर के 2 नगर निगमों के टिकट वितरण से पहले कांग्रेस  में घमासान तेज हो गया है. अभी तक पार्टी के भीतर अपनी बात रखने वाले नेता अब खुलकर विरोध में आ गए हैं.इसकी बड़ी वजह दिल्ली से आए कांग्रेस के कोऑर्डिनेटर ऑब्जर्वर  और जयपुर कांग्रेस के विधायकों के बीच खींचतान है. जयपुर कांग्रेस के नेताओं ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत  से मिलकर अपनी नाराजगी व्यक्त की है. दिल्ली से आए नेता जहां कांग्रेस के विधायकों से नामों की सूची मांग रहे हैं. वहीं, जयपुर कांग्रेस के विधायक जयपुर में खुद सिंबल वितरण की जिद पर अड़े हुए हैं.नगर निगम चुनाव में टिकट वितरण को लेकर विधायकों में अंदरखाने चल रही नाराजगी अब खुलकर बाहर आने लगी है. टिकट वितरण में अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की ओर से नियुक्त पर्यवेक्षकों की ओर से हस्तक्षेप करने से नाराज विधायकों ने अब उनके खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. विधायकों ने इसकी शिकायत अब मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से की है. शुक्रवार को देर रात तक मुख्यमंत्री आवास पर जयपुर के विधायकों की बैठक हुई, जिसमें प्रभारी मंत्री शांति धारीवाल, परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास, विधायक अमीन कागजी, रफीक खान, गंगा देवी और जयपुर से सांसद का चुनाव लड़ चुकी ज्योति खंडेलवाल भी शामिल हुई.सूत्रों की माने तो जयपुर के विधायक एआईसीसी ओर से नियुक्त पर्यवेक्षक तरुण कुमार के रवैए से नाखुश है. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और पीसीसी चीफ गोविंदग सिंह डोटासरा के साथ हुई बैठक में जयपुर के विधायकों ने साफ कहा है कि सिंबल वहीं बाटेंगे, जबकि एआईसीसी पर्यवेक्षक चाहते हैं कि विधायक केवल अपनी लिस्ट दें सिंबल पर्यवेक्षकों की ओर से जारी किए जाएंगे. इसी के चलते अभी तक जयपुर के विधायकों ने पर्यवेक्षकों को अपनी अपने-अपने नामों की सूची नहीं सौंपी है. गौरतलब है कि जयपुर के विद्याधर नगर, मालवीय नगर औऱ सांगानेर से कांग्रेस प्रत्याशी रहे नेताओं ने तो अपने नामों की लिस्ट एआईसीसी पर्यवेक्षक तरुण कुमार को सौंप दी है, लेकिन विधायकों ने अभी तक सूची नहीं सौंपी जबकि नामांकन में अब केवल दो दिन का ही समय बचा है. कांग्रेस के नेताओं की अगर मानें तो  सिंबल बंटवारे को लेकर विधायकों और पर्यवेक्षकों के बीच  चल रही लड़ाई में अब प्रदेश प्रभारी अजय माकन हस्तक्षेप करके मामले का निपटारा कराएंगे. बताया जा रहा है कि देर रात चली बैठक के बाद पीसीसी चीफ गोविंद डोटासरा ने अजय माकन से इस मामले में बात की है.जयपुर, जोधपुर और कोटा नगर निगमों  के चुनाव में अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की ओर से बनाए गए पर्यवेक्षक सचिन पायलट कैंप के लोगों को गेम टिकट वितरण में एडजस्ट करना चाहते हैं. सचिन पायलट कैंप के लोगों की लिस्ट सीधे पर्यवेक्षकों तक पहुंच रही है. यही डर जयपुर के विधायकों को सता रहा है कि कहीं पर्यवेक्षक उनकी लिस्ट में पायलट कैंप के लोगों को एडजस्ट ना कर दें. वहीं, दूसरी ओर विद्याधर नगर विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस प्रत्याशी रहे सीताराम अग्रवाल के खिलाफ प्रदेश कांग्रेस के पूर्व महासचिव और एआईसीसी सदस्य गिरिराज गर्ग ने मोर्चा खोल दिया है. गिरिराज गर्ग का कहना है कि विद्याधर नगर में पार्टी के समर्पित कार्यकर्ताओं की उपेक्षा की जा रही है. इससे पहले भी एक दर्जन पीसीसी के पूर्व पदाधिकारियों ने दिल्ली से आए नेताओं से मुलाकात कर अपनी नाराजगी जाहिर की थी. कुल मिलाकर कहा जा सकता है कि टिकट वितरण से पहले ही कांग्रेस के भीतर इस कलह से निश्चित तौर पर न केवल कार्यकर्ताओं का मनोबल कमजोर होगा बल्कि चुनाव परिणाम पर भी इसका असर नजर आएगा.

READ More...  राजस्थान बोर्ड RBSE | BSER की प्रायोगिक परीक्षाएं शुरू, ऐसा नहीं होने पर माना जाएगा गैरहाजिर!