स्कूल व्यख्याता भर्ती परीक्षा:  दो से ढाई लाख अभ्यर्थियों के पक्ष में फैसला आज होने की उम्मीद

0
183

स्कूल व्यख्याता भर्ती परीक्षा की तिथि आगे बढ़ाने की मांग को लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की शिक्षामंत्री गोविंद सिंह डोटासरा, RPSC के अधिकारियों और राज्यसभा सांसद डॉ किरोडी लाल मीना के साथ सोमवार शाम होने वाली दूसरे दौर की वार्ता अब मंगलवार को होगी. कांग्रेस के दिल्ली में राजघाट पर आयोजित सत्याग्रह कार्यक्रम में भाग लेने दिल्ली पहुंचे मुख्यमंत्री गहलोत अब मंगलवार को जयपुर लौटेंगे, उसके बाद इस मामले पर कोई निर्णय लिया जा सकेगा. माना जा रहा है संवेदनशील मुख्यमंत्री अभ्यर्थियों की भावनाओं के अनुरूप ही कोई फैसला लेंगे.

इससे पहले सोमवार सुबह 9.30 बजे डॉ किरोडी लाल मीना के नेतृत्व में अभ्यर्थियों के एक प्रतिनिधिमंडल ने मुख्यमंत्री आवास पर सीएम गहलोत और शिक्षामंत्री गोविन्द डोटासरा से मुलाकात कर अपना पक्ष रखा. मुख्यमंत्री गहलोत ने प्रतिनिधिमंडल की बात सुनी और अभ्यर्थियों की मांगों पर पुनर्विचार करने का भरोसा दिलाया. मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि अभी मैं दिल्ली जा रहा हूँ, शाम तक वापस लौटूंगा और शाम को प्रमुख शासन सचिव एवं शिक्षा मंत्री एवं आपके प्रतिनिधिमंडल के साथ परीक्षा तिथि को आगे बढ़ाने को लेकर विस्तार से बात करूंगा. उसके बाद मैं छात्र-छात्राओं के हितों में ही फैसला लूंगा.

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से मुलाकात के बाद डॉ किरोडी मीना के नेतृत्व में अभ्यर्थियों के प्रतिनिधिमंडल ने सुबह 11.30 बजे शासन सचिवालय पहुंचकर शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा और प्रमुख शासन सचिव, शिक्षा से मुलाकात कर छात्र-छात्राओं का पक्ष रखा जिसमें परीक्षा तिथि को आगे बढ़ाने को लेकर सकारात्मक वार्ता हुई. इसके बाद प्रमुख शासन सचिव ओर शिक्षा मंत्री ने कहा की शाम तक मुख्यमंत्री गहलोत के दिल्ली से आने के बाद उनके सामने विस्तार से बात कर आपका पक्ष रखेंगे और उसके बाद मुख्यमंत्री जी स्वयं इस बारे में फैसला लेंगे. डॉ किरोडी लाल मीना ने बताया कि हमारी काभी सकारात्मक माहौल में सरकार से वार्ता हुई है और सरकार की ओर से हमें भरोसा दिया गया है कि अभ्यर्थियों का अहित नहीं होगा और छात्रों के हित में ही फैसला लिया जाएगा.

READ More...  मेरे बेटे में जैसे किया, वैसे उसे भी जिंदा जला दो: हैदराबाद आरोपी की मां

गौरतलब है कि डॉक्टर किरोड़ी लाल मीना के नेतृत्व में स्कूल व्याख्याता भर्ती परीक्षा की तिथि को आगे बढ़ाने एवं अन्य माँगो के लेकर पिछले करीब एक महीने से अभ्यर्थियों का आंदोलन चल रहा है. जिसके चलते शनिवार को कुछ आंदोलनकारी छात्राएं जगतपुरा स्थित पानी की टंकी पर चढ़ गई थीं और आत्मदाह की धमकी दे रही थीं. जिस पर रविवार शाम मुख्यमंत्री गहलोत ने ट्वीट कर छात्राओं से नीचे उतरने की अपील की. मुख्यमंत्री गहलोत की अपील और डॉ किरोडी लाल मीना के पक्के आश्वासन के बाद टंकी पर चढ़ी छात्राएं रात 10.30 बजे नीचे उतर आईं.