गुजरात कांग्रेस अध्यक्ष अमित चावड़ा बोले- भाजपा के असंतुष्ट और एनसीपी-बीटीपी विधायक हमारे संपर्क में

0
313

जयपुर: मंगलवार सुबह तक गुजरात कांग्रेस के कुल 67 विधायक जयपुर के शिव विलास होटल पहुंच चुके हैं। गुजरात प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अमित चावड़ा, राज्यसभा उम्मीदवार शक्ति सिंह गौहिल और भरत सिंह सोलंकी समेत 9 बड़े नेता भी जयपुर पहुंचे हैं। सभी को शिव विलास होटल में ठहराया गया है। मंगलवार सुबह रिजॉर्ट में ही कांग्रेस के विधायकों की बैठक हुई, जिसमें ऑब्जर्वर बीके हरीप्रसाद और रजनी ताई पटेल ने रायशुमारी की। बैठक के दौरान दोनों राज्यसभा उम्मीदवार भी मौजूद रहे। बैठक में दोनों उम्मीदवारों को पूरे दमखम से चुनाव लड़ाने की बात कही।

भाजपा के नाराज एमएलए भी हमारे संपर्क में: चावड़ा

गुजरात कांग्रेस अध्यक्ष अमित चावड़ा ने दावा किया- “एनसीपी और बीटीपी के नेताओं के साथ बात हुई है। भाजपा के नाराज एमएलए भी हमारे संपर्क में हैं।” उन सभी बातों पर डीटेल से चर्चा हुई, जिसके बाद रिजॉल्यूशन पास किया है कि आने वाले चुनाव में जो फैसला लेना होगा, उसके लिए सोनिया गांधी अंतिम निर्णय लेंगी। हमारे ऑब्जर्वर सोनिया गांधी को रिपोर्ट देंगे।

स्पीकर ने 5 विधायकों के इस्तीफे मंजूर किए, इसके बाद कांग्रेस ने उन्हें पार्टी से सस्पेंड किया
गुजरात कांग्रेस के 5 विधायकों प्रवीण मारू, मंगल गावित, सोमाभाई पटेल, जेवी काकड़िया और प्रद्युम्न जडेजा ने रविवार को इस्तीफा दिया था। इनके इस्तीफे विधानसभा स्पीकर राजेंद्र त्रिवेदी ने सोमवार को मंजूर कर लिए। इसके बाद कांग्रेस ने इन नेताओं को पार्टी से निलंबित कर दिया था।

कांग्रेस के 5 विधायकों के इस्तीफे मंजूर होने के बाद स्थिति
गुजरात विधानसभा में सीटें = 180
5 विधायकों के इस्तीफे के बाद बची सीटें = 175
भाजपा+ (भाजपा 103+ 1 राकांपा + 2 भारतीय ट्रायबल पार्टी) = 106
कांग्रेस+ (कांग्रेस 68+1 जिग्नेश मेवाणी) = 69
गुजरात में राज्यसभा की कितनी सीटों पर चुनाव = 4
गुजरात में राज्यसभा की एक सीट जीतने के लिए जरूरी = 36

READ More...  गहलोत सरकार कर्मचारियों को देगी बड़ी राहत, अप्रैल के वेतन में नहीं होगी कटौती

4 राज्यसभा सीटों पर 3 समीकरण, भाजपा का पलड़ा भारी
भाजपा ने अभय भारद्वाज, रमीवा बेन बारा और नरहरि अमीन को प्रत्याशी बनाया है। कांग्रेस ने शक्ति सिंह गोहिल और भरत सिंह सोलंकी को उम्मीदवार बनाया है।

पहला समीकरण : भाजपा 2 और कांग्रेस 1 सीट आसानी से जीत लेगी।
दूसरा समीकरण : अगर कांग्रेस के 2 विधायकों ने क्रॉस वोटिंग कर दी तो भाजपा 3 सीटें जीत लेगी। भाजपा के पास 106 विधायक हैं। 3 राज्यसभा सीटें जीतने के लिए उसे 2 और वोट चाहिए जो उसे क्रॉस वोटिंग करने वाले 2 विधायकों से मिलेंगे।
तीसरा समीकरण : अगर किसी विधायक ने क्रॉस वोटिंग नहीं की तो भी भाजपा के तीसरे उम्मीदवार के पास जीत के लिए जरूरी 36 वोटों से भी ज्यादा कुल 72 वोट होंगे। ये वोट दूसरी वरीयता वाले होंगे। कांग्रेस उम्मीदवार के पास दूसरी वरीयता वाले वोट 36 ही रहेंगे। ऐसे में वोटों की संख्या भाजपा के पास ज्यादा होने की वजह से उसका तीसरा उम्मीदवार भी जीत सकता है।