समाप्त हुआ गुर्जर आरक्षण आंदोलन, पटरी से उठे आंदोलनकारी

0
256

राजस्थान में चल रहा गुर्जर आरक्षण आंदोलन समाप्त हो गया है. सरकार द्वारा आंदोलनकारियों की सभी मांगें मान लिये जाने के बाद गुरुवार को 12वें दिन आंदोलनकारी दिल्ली-मुंबई रेलवे ट्रैक से हट गये हैं. वहीं आंदोलन के कारण करौली-हिंडौन सड़क मार्ग पर लगाया गया जाम भी हटा लिया गया है. इसके साथ ही प्रशासन ने इंटरनेट सेवायें भी बहाल करवा दी है. आंदोलनकारियों के पटरियों से हट जाने के कारण गत 11 दिनों से बाधित हो रहा दिल्ली-मुंबई रेलवे ट्रैक अब बहाल हो गया है.

गुर्जर आरक्षण आंदोलन की समाप्ति के बाद करौली-हिंडौन मार्ग पर रोडवेज बसों का संचालन शुरू कर दिया गया है. करौली से महुआ, मंडावर, अलवर, जयपुर, भरतपुर और दिल्ली सहित अन्य मार्गों पर भी रोडवेज का संचालन शुरू कर दिया गया है. करौली रोडवेज यातायात प्रभारी शिवदयाल शर्मा ने बताया कि सरकार से गुर्जर समाज के हुये समझौते के बाद बस सेवाओं को बहाल कर दिया गया है. आंदोनलनकारियों ने करौली-हिंडौन सड़क मार्ग पर गुड़ला गांव में लगाया गया जाम हटा दिया है. यहां सड़क पर सूखा पेड़ डालकर जाम लगाया हुआ था.

29 अक्टूबर की मध्य रात्रि से बंद थी इंटरनेट सेवा

आंदोलन के कारण गत 29 अक्टूबर की मध्य रात्रि से करौली और भरतपुर जिले समेत आसपास के पांच जिलों में बंद की गई इंटरनेट सेवाओं को बुधवार देर रात बहाल कर दिया गया. आंदोलन समाप्त हो जाने से पूर्वी राजस्थान में अब जनजीवन सामान्य हो गया है. सबकुछ सामान्य हो जाने से रेलवे, रोडवेज और व्यापारियों के साथ ही आमजन ने भी राहत की सांस ली है.

READ More...  मिलिए राजस्‍थान के 'मास्‍क मैन' से, 26 वर्षों से कभी नहीं छोड़ा इसका साथ

बुधवार रात को हुआ समझौता
उल्लेखनीय है कि बुधवार रात को आरक्षण के मसले को लेकर गुर्जर आरक्षण संघर्ष समिति के संयोजक कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला और समाज के प्रतिनिधिमंडल ने जयपुर में कैबिनेट सब कमेटी से वार्ता की थी. वार्ता में सभी मांगों पर सहमति बन जाने के बाद दोनों पक्षों के हस्ताक्षर से समझौता-पत्र जारी किया गया था. उसके बाद बैंसला ने सीएम अशोक गहलोत से भी मुलाकात की थी.