जानिए डूंगरपुर में खाद्य सुरक्षा योजना का अंजाम, गरीबों को 5 किलो अनाज देने का ऐलान

0
20

डूंगरपुर: देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना महामारी के चलते देश में कोई भी गरीब भूखा नहीं सोए इसके लिए नवम्बर माह तक खाद्य सुरक्षा योजना में गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन करने वाले लोगों के लिए प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना की शुरुआत की थी. योजना के तहत खाद्य सुरक्षा योजना में चयनित लाभार्थियों को खाद्य सुरक्षा योजना के अतिरिक्त प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना में भी 5 किलो गेंहू प्रति यूनिट देने का प्रावधान किया गया है.

केंद्र सरकार की ओर से खाद्य सुरक्षा योजना की गाइड लाइन के अनुसार ग्रामीण क्षेत्र में 69 फीसदी व शहरी क्षेत्र में 53 फीसदी गेंहू का आवंटन किया जा रहा है. लेकिन प्रदेश के आदिवासी बहुल डूंगरपुर जिले में ग्रामीण क्षेत्र में 80 फीसदी परिवार खाद्य सुरक्षा योजना में चयनित है. ऐसे में राज्य सरकार खाद्य सुरक्षा योजना में अपनी ओर से शेष 11 फीसदी परिवारों को अपनी ओर से गेंहू का आवंटन करती है. लेकिन प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना में केंद्र सरकार की ओर से खाद्य सुरक्षा योजना की केन्द्रीय गाइड लाइन के अनुसार ग्रामीण क्षेत्र में 69 फीसदी व शहरी क्षेत्र में 53 फीसदी गेंहू का आवंटन किया जा रहा है. ऐसे में प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना में जिले को 11 प्रतिशत गेंहू का कम आवंटन हो रहा है जिसके चलते कई गरीब परिवार प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना से वंचित है.

राशन डीलर्स का कहना है की डूंगरपुर जिले में 563 राशन की दुकाने हैं और इन दुकानों के माध्यम से 3 लाख 7 हजार परिवारों की 13 लाख यूनिट को खाद्य सुरक्षा योजना में लाभ दिया जा रहा है. लेकिन प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना में कम गेंहू का आवंटन होने से प्रति दूकान करीब 40 से 50 परिवार योजना से वंचित है. जिसके चलते राशन डीलर्स को भी काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है. राशन डीलर्स ने बताया की इसके लिए उन्होंने प्रशासन से लेकर राजनेताओं के माध्यम से इस समस्या को उठाने का प्रयास किया है लेकिन अभी कोई हल नहीं निकला है . राशन डीलर्स ने केंद्र व राज्य सरकार से इस 11 प्रतिशत गेंहू के कम आवंटन की पूर्ति की मांग की है ताकि प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना का लाभ प्रत्येक लाभार्थी को मिल सके.

READ More...  DELHI VIOLENCE: आधी रात अजित डोभाल के दौरे का असर, जांच में जुटी स्पेशल सेल व क्राइम ब्रांच