JDU ने दिया नागरिकता संशोधन विधेयक को समर्थन, TRS,सपा ने किया विरोध

0
149

AIADMK सांसद एसआर बालसुब्रमण्यम ने कहा कि इस विधेयक पर हमारी कुछ चिंताएं हैं. हालांकि हम इस विधेयक का समर्थन कर रहे हैं. तेलंगाना राष्ट्र समिति राज्यसभा सांसद  डॉ. केशव राव ने कहा कि  यह विधेयक भारत के विचार को चुनौती देता है और न्याय के प्रत्येक आदर्श को नकारता है. इस बिल को वापस लिया जाना चाहिए. जेडीयू सांसद आरसीपी सिंह ने कहा हम बिल का समर्थन करते हैं. यह बिल बहुत स्पष्ट है, यह हमारे तीन पड़ोसी देशों के उत्पीड़ित अल्पसंख्यकों को नागरिकता देता है, लेकिन यहां हमारे भारतीय मुस्लिम भाइयों पर बहस चल रही है.  समाजवादी पार्टी के राज्यसभा सांसद जावेद अली खान ने कहा कि हमारी सरकार इस Citizen ship Amendment Bill और  NRC के माध्यम से जिन्ना के सपने को पूरा करने की कोशिश कर रही है.याद कीजिए, 1949 में सरदार पटेल ने कहा था कि ‘हम भारत में वास्तव में धर्मनिरपेक्ष लोकतंत्र की नींव रख रहे हैं.’टीएमसी सांसद डेरेक ओ ब्रायन ने कहा कि नागरिकता संशोधन बिल वाकई देश को बांटने वाला है. जिन्ना की कब्र पर स्वर्ण अक्षरों में नागरिकता संशोधन बिल लिखा जाएगा. राज्यसभा में टीएमसी सांसद डेरेक ओ ब्रायन ने कहा कि इस बिल पर संसद में संग्राम होगा लेकिन उसके बाद ये बिल सुप्रीम कोर्ट में भी जाएगा. इसपर अमित शाह ने उन्हें टोका तो डेरेके ओ ब्रायन ने कहा कि मैं सही होऊंगा, इसलिए गृह मंत्री टोक रहे हैं. उन्होंने कहा कि सरकार ने नोटबंदी, अर्थव्यवस्था, कश्मीर की बात की लेकिन हर बार सरकार ने वादा तोड़ा है. सरकार को वादा तोड़ने में महारत हासिल है. जेपी नड्डा बोले कि आजादी के बाद पाकिस्तान में लगातार अल्पसंख्यकों की संख्या घटी है जबकि भारत में अल्पसंख्यकों की संख्या बढ़ी है. उन्होंने कहा कि कई बार कुछ लोग समझना नहीं चाहते हैं, विपक्ष ऐसा ही कर रहा है. आर्टिकल 14 को बार-बार उठाया जा रहा है, जो कि गलत तर्क है. कांग्रेस पार्टी को राजनीति नहीं बल्कि देशहित के बारे में सोचना चाहिए.

READ More...  MADHYA PRADESH: राज्यपाल ने दिया जवाब, विधायकों को सुरक्षा देने का काम कार्यपालिका का