जानिए कितनी होगी कीमत, फार्मा कंपनी Mylan ने लॉन्च की Covid-19 की दवा

0
68

फार्मास्युटिकल कंपनी मायलन ने कोरोना संक्रमितों के इलाज के लिए ‘डेसरेम’ नाम से रेमडेसिविर दवा भारत में लॉन्च की है.

नई दिल्ली. मायलन फार्मा कंपनी ने कोरोना संक्रमितों के इलाज के लिए ‘डेसरेम’ नाम से रेमडेसिविर दवा का जेनिरिक वर्जन भारत के बाजार में पेश किया है. यह दवा कोरोना के संदिग्ध मरीजों और लैब से कंफर्म हुए कोरोना मरीजों को दिए जाने के लिए मंजूरी हासिल कर चुकी है. यह इंजेक्शन 4800 रुपये की कीमत में भारतीय बाजार में उपलब्ध होगा. इसके साथ ही कंपनी ने एक कोविड-19 हेल्प लाइन नंबर भी जारी किया है. जहां पर मरीज और हेल्थ वर्कर्स इस दवा की उपलब्धता समेत कई जानकारियां प्राप्त कर सकते हैं. इससे पहले हेटेरो की रेमडेसिविर 5400 रुपए और सिप्ला की रेमडेसिविर 4000 रुपए के भाव पर बाज़ार में आ चुकी है.

जारी किया हेल्पलाइ ननंबर

कंपनी ने कहा कि इस दवा के बारे में हेल्थ वर्कर्स पूरी जानकारी 7829980066 हेल्पलाइन पर कॉल कर के प्राप्त कर सकते हैं. साथ ही ये भी जान सकते हैं कि कितनी दवा की उपलब्धता है. केंद्र सरकार ने भी कंपनियों से कहा है कि वो लोगों की दिक्कतों को देखते हुए हेल्पलाइन नंबर शुरु करें. जहां ज़रूरतमंद दवा की सप्लाई के बारे में पता कर सकें और अपनी ज़रूरत बता सकें. दरअसल, ये दवा कोराना के इलाज में कुछ हद तक कारगार हो रही है.

 

पूरे देश में होगी सप्लाई

मायलन फार्मा के भारत में अध्यक्ष राकेश बजमई ने कहा कि रेमडेसिविर के वाणिज्यिक उत्पादन की अनुमति मिलने के बाद हमने दवा का जेनिरिक वर्जन तैयार किया है. दवा का पहला बैच आज रिलीज हो चुका है. दवा की लगातार बढ़ती मांग को देखते हुए कंपनी ने कहा है कि वह इसकी सप्लाई पूरे देश में करना जारी रखेगी. कंपनी ने ये दवा अपनी बेंगलुरु की फैसिलिटी में बनाई है.

READ More...  कोरोना से निपटने के लिए केंद्रीय एजेंसियों के साथ बैठक

ये कंपनी भी कर रही कोरोना बनाने की तैयारी

भारतीय दवा निर्माता जुबिलेंट लाइफसाइसेंज भी एंटीवायरल दवा रेमडेसिवीर बनाने की तैयारी कर रही है. कंपनी ने स्टॉक एक्सचेंज को दी जानकारी में बताया कि उसे ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया से कोविड-19 की दवा लॉन्‍च करने की अनुमति मिल चुकी है. इससे पहले अमेरिका के FDA ने इमरजेंसी यूज ऑर्थराइजेशन के तहत गिलीड साइंसेज को कोरोना इलाज के लिए रेमडेसिवीर का इस्तेमाल की मंजूरी दे दी थी.