न ट्रेन चलेगी-न प्लेन, 19 दिन के लिए और बढ़ा देशभर में लॉकडाउन

0
366

कोरोना वायरस के खिलाफ चल रही देश की जंग अब और लंबी हो गई है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लॉकडाउन को 3 मई तक बढ़ा दिया है. हालांकि, लॉकडाउन बढ़ने के संकेत सरकार ने पहले ही दे दिये थे, लेकिन कुछ राहत की भी उम्मीद की जा रही थी, मगर ऐसा नजर नहीं आ रहा है.

पीएम मोदी के ऐलान के बाद रेलवे की तरफ से बयान आया है कि सभी पैसेंजर ट्रेन लॉकडाउन जारी रहने तक ही बंद रहेंगी यानी 3 मई तक कोई भी पैसेंजर ट्रेन नहीं चलेगी. मेट्रो सेवा भी पहले की तरह ही बंद रहेगी.

इसके अलावा फ्लाइट सेवा भी नहीं खुलेगी. सभी घरेलु और अंतरराष्ट्रीय फ्लाइट्स 3 मई की रात 11 बजकर 59 मिनट तक बंद रहेंगी.

बसों को लेकर हालांकि, कोई जानकारी अब तक नहीं दी गई है, लेकिन जिस तरह पीएम मोदी ने हर थाने, हर जिले और हर राज्य में सघन निगरानी का आदेश दिया है, वैसी परिस्थिति में बसों के आवागमन की संभावना न के बराबर ही है.

परिवहन न खोलने की मांग कई राज्यों के मुख्यमंत्रियों की तरफ से भी की गई थी. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा था कि अगर परिवहन खुल गया तो लॉकडाउन का कोई असर नहीं रहेगा. लेकिन इस सबके बीच किसान और फसल की वजह से राहत की उम्मीद की जा रही थी.

दरअसल, इस समय देश में रबी की फसल कटाई का वक्त है. फसल तैयार है, सीमाएं लॉक होने के चलते न तो मजदूर कहीं जा पा रहे हैं और न ही मशीनों की आवाजाही हो रही है. पीएम मोदी ने मंगलवार को लॉकडाउन बढ़ाने के ऐलान के साथ ये तो कहा है कि केंद्र सरकार और राज्य सरकारें मिलकर प्रयास कर रही हैं कि किसानों को कम से कम दिक्कत हो. लेकिन ये दिक्कत कैसे कम होंगी, इसका फॉर्मूला अभी नहीं बताया गया है.

READ More...  बड़ी खबर: 30 जून तक नहीं चलेंगी कोई भी रेग्युलर ट्रेन, रेलवे ने कैंसिल किए सभी टिकट

बुधवार को जारी होंगी गाइडलाइंस

पीएम मोदी ने अपने संबोधन में कुछ राहत का जिक्र किया है. उन्होंने बताया है कि इस विषय में कल यानी बुधवार को गाइडलाइंस जारी की जाएंगी. अब इन गाइडलाइंस में क्या निकलकर आता है इस पर सबकी नजर है. लेकिन पीएम ने अपने बयान में ये भी कहा है कि अगले एक सप्ताह लॉकडाउन को और कठोरता से लागू कराया जाएगा. उन्होंने कहा कि 20 अप्रैल तक हर थाने, हर जिले और हर राज्य में सघन निगरानी रखी जायेगी.

20 अप्रैल के बाद कुछ राहत दी जाएंगी लेकिन पीएम मोदी ने उसके लिये भी शर्त रखी हैं. ऐसे में ये कहा जा सकता है कि फिलहाल जिस तरह से 21 दिन का लॉकडाउन कर्फ्यू के रूप में चल रहा था, लॉकडाउन का दूसरा फेज भी वैसे ही आगे भी जारी रहने वाला है. लेकिन जरूरी सेवाओं को लेकर राहत की उम्मीद अब भी की जा रही है.