Lockdown: मनरेगा में रोजगार देने में राजस्थान देशभर में सबसे आगे, 24.31 लाख तक पहुंची संख्या

0
145

जयपुर : कोरोना महामारी के इस दौर में ग्रामीण इलाकों में मनरेगा  योजना के तहत सर्वाधिक श्रमिकों को रोजगार (Employment) देने के मामले में राजस्थान देश का पहला राज्य बन गया है. 10 मई को राजस्थान में मनरेगा श्रमिकों की संख्या 24 लाख 31 हजार तक पहुंच गई. इस उपलब्धि पर डिप्टी सीएम सचिन पायलट ने कहा कि राजस्थान ने मनरेगा योजना के तहत श्रमिक नियोजन के मामले में पूरे देश में अपना प्रथम स्थान पुनः प्राप्त कर लिया है, जो हमारे लिए हर्ष की बात है.

मॉडिफाई लॉकडाउन में शुरू किया गया था कार्य
कोरोना संक्रमण के इस दौर में ग्रामीण जनता को आर्थिक संबल प्रदान करने के लिए मनरेगा योजना में रोजगार देने की शुरुआत मॉडिफाई लॉकडाउन में की गई थी. हालांकि अप्रैल माह के मध्य में जब इस पर काम शुरू किया गया तो उस समय मनरेगा श्रमिकों की संख्या महज करीब 60 हजार थी. लेकिन उसके बाद जब रोजगार देना शुरू किया गया तो इस संख्या में तेजी से इजाफा होने लगा. 10 मई को मनरेगा के तहत सर्वाधिक श्रमिकों को रोजगार देने के मामले राजस्थान देश का पहला राज्य बन गया.

उत्तर प्रदेश दूसरे नंबर पर

10 मई को राजस्थान में मनरेगा श्रमिकों की संख्या 24 लाख 31 हजार तक पहुंच गई. जबकि इस दिन मनरेगा श्रमिकों की संख्या के मामले में उत्तरप्रदेश 22 लाख 64 हजार श्रमिकों की संख्या के साथ दूसरे नंबर पर और 21 लाख 32 हजार श्रमिकों की संख्या के साथ छत्तीसगढ़ तीसरे नंबर पर था. इनके अलावा 16 लाख 82 हजार श्रमिकों की संख्या के साथ मध्यप्रदेश चौथे नंबर पर और 13 लाख 42 हजार की श्रमिकों की संख्या के साथ वेस्ट बंगाल पांचवें नंबर पर रहा.

READ More...  मुंबई इंडियंस ने कोलकाता नाइट राइडर्स को दी 8 विकेट से मात

मनरेगा योजना के तहत 260 तरह के विभिन्न कार्य करवाए जाते
उल्लेखनीय है कि मनरेगा योजना के तहत 260 तरह के विभिन्न कार्य करवाए जाते हैं. वर्तमान में कोरोना संक्रमण को देखते हुए केवल व्यक्तिगत लाभ की श्रेणी के कार्य ही श्रमिकों से करवाए जा रहे हैं, जिससे सोशल डिस्टेंसिंग मेंटेंन हो सके और कोरोना संक्रमण का कोई खतरा ना रहे.

https://twitter.com/SachinPilot/status/1259710551325904896