विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस: किन लोगों को होती है थेरेपी की जरूरत, जानें आपके लिए कौन सी थेरेपी है फायदेमंद

0
18

दुनिया भर में तेजी से बढ़ रही मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं के बारे में जागरुकता फैलाने के लिए हर साल 10 अक्टूबर को विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस के रूप में मनाया जाता है. साल 2020 में कोविड-19  महामारी ने इस क्षेत्र की चुनौतियां और बढ़ा दिया है, इसीलिए इस वर्ष का विषय है- ‘मेंटल हेल्थ ​फॉर ऑल, ग्रेट इंवेस्टमेंट, ग्रेट एक्सेस. कोविड महामारी के दौरान लगे तमाम प्रतिबंधों के कारण लोगों को लंबे समय तक घर में बंद रहना पड़ा है, इस दौरान लंबे समय तक वह अपने प्रियजनों से मिल नहीं सके. महामारी के दौरान ऐसे तमाम कारकों ने लोगों के मानसिक स्वास्थ्य पर नकारात्मक असर डाला है. कई लोग तो स्वयं से इन समस्याओं से लड़ने में सक्षम थे, जबकि कई लोगों को इससे उबरने के लिए दूसरे लोगों की मदद की आवश्यकता पड़ी.

आमतौर पर दोस्तों और प्रियजनों को अपने दिल की बातें बता देने से मन काफी हल्का हो जाता है. कई बार कुछ ऐसे विषय होते हैं, जिनपर लोगों के साथ और समर्थन की जरूरत होती है, लेकिन हर बार आपको दूसरों का साथ मिले या सिर्फ बातों से ही आपकी परेशानी दूर हो जाए, यह आवश्ययक नहीं है. ऐसे समय में आपको किसी विशेषज्ञ के सलाह की आवश्यकता होती है. यहां पर काम आते हैं, मानसिक स्वास्थ्य विशेषज्ञ या थेरपिस्ट. यह विशेषज्ञ समस्या की जड़ तक पहुंचकर आपको उससे बाहर आने और जीवन में सकारात्मक बदलाव लाने में मदद कर सकते हैं.

थेरपी लेने के लिए जरूरी नहीं है कि आप किसी मानसिक विकार से ग्रसित हों. मौजूदा वक्त में पारिवारिक, काम को लेकर तनाव, खान-पान से संबंधित विकार और यहां तक कि आत्म-संदेह जैसी तमाम स्थितियां हैं, जिसके कारण लोग तनाव और चिंता से घिरे रहते हैं. ऐसे लोग भी थेरपी ले सकते हैं.

वैसे तो हर तरह की बीमारियों को ठीक करने के लिए दवाइयां उपलब्ध हैं लेकिन मानसिक या भावनात्मक समस्याओं के लिए कोई भी विशेष दवा नहीं है. इसका एक कारण यह भी हो सकता है कि अधिकांश मानसिक बीमारियों के पीछे कोई एक कारण नहीं होता है. हां, कुछ ऐसी दवाएं जरूर हैं जो लक्षणों और दुष्प्रभावों को कम करने में मदद कर सकती हैं. इसके अलावा विशेषज्ञों का मानना है कि मानसिक स्वास्थ्य के वास्तविक कारणों का पता लगाने में दवाएं प्रभावी नहीं हैं. दवाओं के माध्यम से बस लक्षणों को ही नियंत्रित किया जा सकता है.

वहीं दूसरी तरफ देखें तो थेरेपी के माध्यम से समस्याओं को दूर करना एक लंबी प्रक्रिया जरूर है, लेकिन इससे लक्षणों में राहत के साथ समस्याओं को प्रभावी रूप से खत्म किया जा सकता है. ऐसे कई सारे मामले देखने को मिले हैं जहां लोगों ने थेरेपी लेने के बाद अपने जीवन में बड़ा बदलाव अनुभव किया है. न सिर्फ उन्हें लक्षणों को दूर करने में लाभ मिला है, साथ ही मानसिक स्वास्थ्य से जुड़ी समस्या में भी राहत मिली है.

READ More...  इस आधार पर जारी होंगे रिजल्ट, स्थगित की जा चुकी है DU और सभी कॉलेज की आगामी परीक्षाएं

ऐसे कई अस्पताल, क्लीनिक और स्वास्थ्य सेवा केंद्र हैं, जहां पर मानसिक स्वास्थ्य सलाहकार मौजूद होते हैं. आप इन विशेषज्ञों से मदद ले सकते हैं. इसके अलावा कई हेल्पलाइन नंबर भी हैं, जिनके माध्यम से आप चिकित्सक से ऑनलाइन परामर्श प्राप्त कर सकते हैं. स्वास्थ्य विशेषज्ञ आपकी समस्याओं को जानने के साथ उचित थेरेपी की सलाह देते हैं.

विभिन्न मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं के आधार पर चिकित्सक थेरपी लेने की सलाह देते हैं. सभी मामलों में एक ही थेरपी से लाभ मिले, ऐसा जरूरी नहीं है. व्यक्ति की समस्याओं के अनुरूप ही उसका इलाज किया जाता है. ऐसा भी हो सकता है कि किन्हीं दो लोगों को एक ही तरह की मानसिक स्वास्थ्य संबंधी समस्या हो, लेकिन उन दोनों को अलग-अलग थेरपी दी जा सकती है. ऐसे ही कुछ लोगों को व्यक्तिगत चिकित्सा की आवश्यकता हो सकती है, जबकि कुछ लोगों को समूह चिकित्सा से लाभ मिल सकता है. मसलन, मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं को दूर करने के लिए आवश्यकतानुसार कई प्रकार की थेरपी को प्रयोग में लाया जाता है. उनमें से कुछ थेरपी निम्नलिखित हैं.

बिहेवियरल थेरपी

कॉग्नेटिव बिहेवियरल थेरपी

साइकोडेनमिक थेरपी

डांस थेरपी और मूवमेंट थेरपी

आर्ट थेरपी

ड्रामा थेरपी

साइकोसेक्सुअल थेरपी

फेमिली और कपल थेरपी

इलाज के लिए सही चिकित्सक को ढूंढना बहुत महत्वपूर्ण है, क्योंकि यही चिकित्सक आपको मजबूत और आत्म-जागरुक होने में मदद करते हैं. किसी भी मानसिक स्वास्थ्य चिकित्सक से इलाज लेने से पहले आपको निम्न बातों का विशेष ध्यान रखना चाहिए.

सबसे पहले थेरेपिस्ट के साथ आपका सहज महसूस करना बहुत जरूरी होता है. आपको ऐसे चिकित्सक से इलाज कराना चाहिए, जिससे आपको अपनी समस्याओं को शेयर करने में कोई समस्या न हो. उनके साथ आपको सुरक्षित और सहजता का अनुभव होता हो.

थेरपिस्ट के पास लाइसेंस होना चाहिए. इससे आपको ऐसा अनुभव होता है कि जिससे आप इलाज करा रहे हैं उसे बीमारी के बारे में विशेषज्ञता प्राप्त है.

आपको ऐसे अनुभवी चिकित्सक की तलाश करनी चाहिए, जिसने पहले भी विभिन्न प्रकार के मानसिक स्वास्थ्य समस्याओें का सफलतापूर्वक इलाज किया हो.