Monsoon Updates, Heavy Rain Alert: राजस्थान में लू की चेतावनी, मुंबई-गुजरात में बारिश का अलर्ट

0
116

मॉनसून के रफ्तार पकड़ने के बाद भी उत्तर भारत में तापमान फिर से बढ़ने लगा है. वहीं, कई राज्यों में भारी बारिश की संभावना को देखते हुए अलर्ट जारी किया गया है. राजस्थान के कई जिलों में अगले 24 घंटे तक लू यानी गर्म हवाएं (Heat Waves) चलने की चेतावनी दी गई हैं. यहां सोमवार को दिन का अधिकतम तापमान बीकानेर में सबसे अधिक 46.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया.

मौसम विभाग के मुताबिक इस हफ्ते मॉनसून  की रफ्तार धीमी रहेगी. इसके बावजूद मुंबई समेत महाराष्ट्र और गुजरात में भारी बारिश का अलर्ट जारी कर दिया गया है. मौसम विभाग के मुताबिक कोंकन और मुंबई में मंगलवार को भारी से बहुत भारी बारिश की संभावना है.

एक तरफ मौसम की मार से लोग बेहाल हैं और बढ़ता तापमान लोगों के पसीने निकाल रहा है तो वहीं गुजरात में मौसम कहर बरपा रहा है. गुजरात में झमाझम बारिश के बीच गिरी बिजली के कारण तीन लोगों की मौत हो गई है.

भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने बताया कि मॉनसून दक्षिण गुजरात के सभी जिलों, सौराष्ट्र क्षेत्र, दीव और उत्तरी गुजरात के अहमदाबाद, खेड़ा, आणंद, पंचमहल, दाहोद और कच्छ जिले के कुछ हिस्सों समेत कांदला तक पहुंच गया है. मॉनसून की प्रगति के कारण सोमवार सौराष्ट्र क्षेत्र में काफी बारिश हुई.

इस बीच, गिर सोमनाथ जिले में बिजली गिरने से सोमवार को 2 मछुआरों समेत 3 लोगों की मौत हो गई. विभाग के मुताबिक, आने वाले 2 दिन के दौरान सौराष्ट्र और दक्षिण गुजरात के अलावा राज्य के कई हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश होगी. मौसम विभाग के पूर्वानुमान के मुताबिक, ‘सौराष्ट्र और दक्षिण गुजरात के सुदूरवर्ती क्षेत्रों में 18-19 जून को भारी से बहुत भारी बारिश होगी.’

monsoon-16-june_061620080238.jpg

मॉनसून की गति रहेगी धीमी

दक्षिण पश्चिम मॉनसून केरल में सामान्य तारीख एक जून तक पहुंच गया था, अरब सागर में गहरे दबाव का क्षेत्र बनने से यह बहुत तेजी से आगे बढ़ा और चक्रवाती तूफान निसर्ग में बदलकर महाराष्ट्र के तट से तीन जून को टकराया. अब मॉनसून पूरे महाराष्ट्र और छत्तीसगढ़ तथा गुजरात के कुछ हिस्सों में छा चुका है. मौसम विभाग के मुताबिक कम दबाव का क्षेत्र कमजोर पड़ने से एक हफ्ते के लिए मॉनसून की गति भी धीमी रहेगी.

छत्तीसगढ़ में अच्छी बारिश

रायुपर मौसम विभाग केंद्र के मौसम विज्ञानी एच.पी. चंद्रा ने न्यूज एजेंसी पीटीआई को बताया कि आमतौर पर मॉनसून छत्तीसगढ़ में जून के तीसरे हफ्ते में आता है लेकिन इस बार यह एक हफ्ता पहले आ गया. बीते दो दिन रायपुर तथा कई अन्य इलाकों में अच्छी बारिश हुई है. पिछले हफ्ते उत्तर भारत के कुछ हिस्सों में भी हल्की से मध्यम बरसात हुई थी और करीब एक पखवाड़े तक तापमान 40 डिग्री सेल्सियस से कम बना रहा.

READ More...  IPL मे आज भिड़ेंगे दिल्ली कैपिटल्स और किंग्स इलेवन पंजाब

राजस्थान में बरस रही आग

राजस्थान में सोमवार को दिन का अधिकतम तापमान बीकानेर में 46.2 डिग्री, बाड़मेर में 45.3 डिग्री, श्रीगंगानगर में 45.0 डिग्री, जैसलमेर में 44.8 डिग्री, चुरू में 44.5 डिग्री, जोधुपर में 43.4 डिग्री, अजमेर में 41.0 डिग्री, जयपुर में 41.9 डिग्री व कोटा में 41.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया.

मौसम विभाग ने मंगलवार को बीकानेर, बाड़मेर, जैसलमेर, जोधपुर, चुरू व श्रीगंगानगर जिले में कहीं कहीं लू यानी गर्म हवाएं चलने की चेतावनी दी है. वहीं अलवर, अजमेर, बांसवाड़ा, बारां, बूंदी, चित्तौड़गढ़, भीलवाड़ा, दौसा, डूंगरपुर, झालावाड़ व जयपुर सहित कई जिलों में अनेक जगह बादल छाए रहने व तेज हवाएं चलने का अनुमान जताया है. विभाग के मुताबिक अगले कम से कम 24 घंटे तक लू चलने का अनुमान है.

दिल्ली में पारा 43 डिग्री पार

दिल्ली तथा आसपास के इलाकों के लिए मौसम विभाग ने जो अनुमान जताया है उसके मुताबिक इस हफ्ते यहां लू चलने की संभावना नहीं है. राष्ट्रीय राजधानी के कई हिस्सों में सोमवार को पारा 43 डिग्री सेल्सियस के पार पहुंच गया. तापमान अगले तीन से चार दिन तक 40 डिग्री सेल्सियस से अधिक बने रहने की संभावना है. उसके बाद हल्की बारिश होने पर गर्मी से राहत मिल सकती है.

पंजाब-हरियाणा में भी बढ़ी गर्मी

पंजाब और हरियाणा में भी दिन का तापमान सामान्य से अधिक था. हिसार में तापमान सामान्य से दो डिग्री अधिक 42.9 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया. यह इन दोनों राज्यों का सबसे गर्म स्थान रहा.

उत्तर प्रदेश में कहीं-कहीं बारिश

उत्तर प्रदेश के पूर्वी हिस्सों में कहीं कहीं सोमवार को भारी बारिश हुई. मौसम विभाग ने बताया कि राज्य के कुछ हिस्सों में आंधी के साथ बारिश हुई. कहीं-कहीं हल्की बारिश की भी सूचना है. मौसम विभाग ने बताया कि 16 जून को 30 से 40 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से हवा चलने की संभावना है. कुछ हिस्सों में बारिश भी हो सकती है. पश्चिमी उत्तर प्रदेश में कहीं कहीं जबकि पूर्वी उत्तर प्रदेश के कई स्थानों पर 17 और 18 जून को बारिश की उम्मीद है.