नागरिकता संशोधन बिल राज्यसभा में पेश, अमित शाह बोले- मुस्लिम इस देश के नागरिक थे हैं और रहेंगे को डरने की जरूरत नहीं

0
129

गृहमंत्री ने कहा, ‘मैं स्पष्ट रूप से कहना चाहता हूं कि इस देश के अल्पसंख्यकों, मुसलमानों को चिंता करने की जरूरत नहीं है. कोई डराए तो डरिये मत, यह नरेंद्र मोदी की सरकार है, जो संविधान की भावना के साथ चल रही है.’

राज्यसभा में अमित शाह बोले- ये बिल मुसलमानों के खिलाफ नहीं बिल, अफवाहों पर ध्यान ना दें

गृहमंत्री ने कहा कि नागरिकता संशोधन बिल को लेकर बहुत भ्रांतियां फैलाई जा रही है, इससे मुस्लिमों में असमंजस की स्थिति है. मैं बता दूं कि देश के मुसलमानों को मैं आश्वस्त करना चाहता हूं कि उन्हें डरने की जरूरत नहीं है. वे इस देश के नागरिक थे, हैं और रहेंगे.’

राज्यसभा में चर्चा के दौरान अमित शाह ने बताया, ‘सरल भाषा में मैं बताना चाहता हूं कि यह बिल क्या है? पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान, जिन तीन देशों की सीमाएं भारत को छूती हैं, उन तीन देशों में हिंदू, सिख, जैन, बौद्ध, पारसी और ईसाई, ये अल्पसंख्यक लोग जो भारत में आए हैं, किसी भी समय आए हैं, उनको नागरिकता प्रदान करने का इस बिल में प्रावधान है. इसका मतलब आजादी के बाद बांग्लादेश, पाकिस्तान, अफगानिस्तान से जो भी हिंदू, सिख, जैन, बौद्ध, पारसी और ईसाई धर्म के अनुसरण करने वाले आए हैं, उन्हें नागरिकता मिलेगी. इसके अलावा इस बिल में नॉर्थ ईस्ट के हितों की चर्चा गई है.’

READ More...  पुष्कर: राम मंदिर के हक में फैसले को लेकर साधु-संत कर रहे भजन-कीर्तन, जारी है पूजा