महाराष्ट्र: सरकार गठन को लेकर NCP, कांग्रेस और शिवसेना की बैठक शुरू, तीनों पार्टियों के बड़े नेता पहुंचे

0
41

महाराष्‍ट्र में नई सरकार के गठन को लेकर बैठकों का दौर जारी है. मुंबई के वर्ली इलाके स्थित नेहरु सेंटर में कांग्रेस, शिवसेना और एनसीपी की बैठक शुरू हो गई है. इस बैठक में शामिल होने के लिए कांग्रेस नेता अहम पटेल, पृथ्‍वीराज चव्‍हाण, बालासाहेब थोराट, शिवसेना नेता सुभाष देसाई, एकनाथ शिंदे, शरद पवार, जयंत पाटिल और प्रफुल पटेल कई बड़े नेता पहुंचे हैं.

उद्धव और आदित्‍य ठाकरे भी पहुंचे
तीनों पार्टियों की साझा बैठक से पहले कांग्रसे नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि तीनों (कांग्रेस-सेना-एनसीपी) पार्टियों की बैठक में सभी बातों पर निर्णय लिया जाएगा. इस बैठक में शामिल होने के लिए उद्धव ठाकरे और आदित्‍य ठाकरे भी पहुंच गए हैं.

शिवसेना नीत सरकार गठन की प्रक्रिया अंतिम दौर में

महाराष्ट्र में सरकार गठन के लिए राजनीतिक सरगर्मी बढ़ने के बीच शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने शुक्रवार को अपनी पार्टी के विधायकों से यहां मुलाकात की और उनसे कहा कि राज्य में उनकी पार्टी के नेतृत्व वाली सरकार बनने की प्रक्रिया अंतिम चरण में है.

शिवसेना विधायक भास्कर जाधव ने बताया कि ठाकरे ने सरकार गठन की प्रक्रिया और दिल्ली में कांग्रेस-राकांपा नेताओं के बीच बैठकों के बारे में विधायकों को अवगत कराने के लिये उनसे मुलाकात की। उन्होंने कहा, ‘उद्धव ने हमसे मुलाकात की और कहा कि शिवसेना नीत सरकार गठन की प्रक्रिया अंतिम चरण में है.’

अगला मुख्यमंत्री शिवसेना का होगा, राकांपा ने पद नहीं मांगा: माणिकराव

कांग्रेस नेता माणिकराव ठाकरे ने शुक्रवार को कहा कि महाराष्ट्र का अगला मुख्यमंत्री शिवसेना का होगा और शरद पवार के नेतृत्व वाली राकांपा ने सरकार गठन पर राज्यस्तरीय बैठकों में इस पद की मांग नहीं की है. सूत्रों ने बताया है कि मुख्यमंत्री पद पांच साल के लिए शिवसेना को दिया जा सकता है.

ठाकरे ने कहा कि शिवसेना, कांग्रेस और राकांपा के नेता कुछ लंबित मामलों को स्पष्ट करने के लिए शुक्रवार को बाद में साथ में बैठेंगे और सरकार गठन का दावा करने के लिए राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मिलने के समय को लेकर फैसला लेंगे. उन्होंने कहा, ‘मुख्यमंत्री शिवसेना से होगा…राकांपा ने राज्यस्तरीय बैठकों में मुख्यमंत्री के पद की मांग नहीं की है.’

सीएम पर फंसा पेंज
बता दें कि महाराष्‍ट्र में शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस के बीच गठबंधन सरकार बनाने का रास्‍ता साफ होने के बाद मुख्यमंत्री को लेकर पेंच फंसा है. शिवसेना ने कहा है कि महाराष्‍ट्र की जनता की इच्‍छा है कि उद्धव ठाकरे सीएम बनें. इस बीच सूत्रों के हवाले से खबर आ रही है कि अगर उद्धव ठाकरे सीएम बनने से इनकार कर देते हैं, तो ऐसी स्थिति में संजय राउत को मुख्यमंत्री बनाया जा सकता है.

READ More...  उद्धव के शपथग्रहण की गेस्ट लिस्ट, मोदी-सोनिया को न्योता, इन नेताओं का होगा जमावड़ा

सूत्रों का यह भी कहना है कि राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) प्रमुख शरद पवार ने शिवसेना प्रवक्‍ता संजय राउत को सीएम बनाने का सुझाव दिया है, लेकिन कहा ये भी जा रहा है कि राउत ने सीएम बनने की अटकलों को खारिज कर दिया है. हालांकि, सीएम पर अंतिम फैसला बैठक में ही होगा.

शिवसेना का ही होगा सीएम पद
इससे पहले संजय राउत (Sanjay Raut) ने कहा कि महाराष्ट्र में पांच साल के लिए शिवसेना का ही सीएम होगा. सभी दल शिवसेना के सीएम मुद्दे पर राजी हो गए हैं. इसके साथ ही पूर्व गठबंधन सहयोगी भारतीय जनता पार्टी (BJP) के साथ सरकार बनाने की बात पर उन्होंने कहा कि अब सारे रास्ते बंद हो गए हैं. राउत ने कहा कि अगर बीजेपी इंद्र का सिंहासन देगी, वो भी हमें मंजूर नहीं होगा.

पत्रकारों से बातचीत में शिवसेना के राज्यसभा सांसद संजय राउत ने कहा कि दो दिन में मुख्यमंत्री को लेकर फैसला हो जाएगा. उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र की जनता और शिवसैनिक चाहते हैं कि उद्धव ठाकरे राज्य के सीएम बनें. दूसरी तरफ ये चर्चा चल रही है कि उद्धव ठाकरे अगर सीएम पद स्वीकार नहीं करते हैं तो एनसीपी संजय राउत का नाम सीएम पद के लिए आगे बढ़ा सकती है.

ANI

@ANI

Sanjay Raut, Shiv Sena: Shiv Sena Chief Minister will be there for full 5 years.

View image on Twitter
बैठक के बाद सरकार बनाने का दावा पेश करेंगे

संजय राउत ने कहा कि महाराष्ट्र की नई सरकार का गठन शिवसेना के नेतृत्व में होगा. वहीं सरकार गठन के लिए दावा पेश करने के सवाल पर राउत ने कहा कि कांग्रेस, एनसीपी और शिवसेना के वरिष्ठ नेताओं की बैठक होने वाली है. इस बैठक के बाद हम निर्णय लेंगे कि सरकार बनाने के लिए राज्यपाल के समक्ष कब दावा पेश करना है. राउत ने कहा कि राज्य में जल्द ही सरकार का गठन हो जाएगा. दरअसल, बीजेपी के साथ गठबंधन में महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव लड़ने वाली शिवसेना के सत्ता में बराबार की भागीदारी और ढाई-ढाई साल के लिए मुख्यमंत्री पद की मांग को लेकर दोनों दलों में सहमति नहीं बन पाई थी. अब एनसीपी और कांग्रेस के साथ मिलकर शिवसेना सरकार बनाने की ओर बढ़ रही है. बता दें कि 24 अक्टूबर को महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के नतीजे आए थे. एक महीने का समय होने जा रहा है, लेकिन अभी तक राज्य में सरकार का गठन नहीं हो पाया है. शिवसेना के नेतृत्व में एनसीपी और कांग्रेस की सरकार बनाने को लेकर बातचीत अंतिम दौर में है. राज्य में फिलहाल राष्ट्रपति शासन लागू है.