नई पर्यटन नीति और कर्मचारियों के वेतन कटौती पर हो सकता है निर्णय,गहलोत कैबिनेट की बैठक आज

0
111
The Chief Minister of Bihar, Shri Nitish Kumar with the Chief Minister of Rajasthan, Shri Ashok Gehlot at the Chief Ministers’ Conference on Internal Security, in New Delhi on April 16, 2012.
आज अशोक गहलोत कैबिनेट की अहम बैठक होगी. इस बैठक में नई पर्यटन नीति लाने समेत कई महत्वपूर्ण फैसले लिये जाने की संभावना है.

जयपुर. प्रदेश में सियासी संकट थमने के बाद अशोक गहलोत कैबिनेट की अहम बैठक आज मुख्यमंत्री निवास पर दोपहर बाद 4.30 बजे होगी. कैबिनेट की बैठक में नई पर्यटन नीति पर मुहर लग सकती है. इसके अलावा सेवा नियमों में संशोधन को भी कैबिनेट की मंजूरी मिल सकती है. वहीं सीएम समेत मंत्रियों तथा कर्मचारियों का 1 दिन का वेतन काटने पर भी निर्णय हो सकता है. कैबिनेट की बैठक में करीब एक दर्जन बिंदु रखे जाएंगे.

कैबिनेट सचिवालय ने सभी कैबिनेट मंत्रियों को बैठक में आने की सूचना भेज दी है. जो मंत्री जयपुर से बाहर हैं उन्हें भी कैबिनेट की बैठक में भाग लेने के लिए समय पर जयपुर पहुंचने के निर्देश दिए गए हैं. कैबिनेट की बैठक की अध्यक्षता मुख्यमंत्री अशोक गहलोत करेंगे. मुख्यमंत्री गहलोत ने करीब 6 महिने पहले प्रत्येक बुधवार को कैबिनेट की बैठक आयोजित करने के निर्देश जारी किए थे. उन्हीं निर्देशों की पालना के तहत बुधवार को कैबिनेट की बैठक बुलाई गई है.

पर्यटन उद्योग को मिलेगी संजीवनी

इस बैठक में नई पर्यटन नीति को मंजूरी मिल सकती है. राज्य में करीब 20 साल बाद लाई जा रही इस पर्यटन नीति से कोरोना वायरस संक्रमण के कारण संकट का सामना कर रहे पर्यटन क्षेत्र को फिर से पटरी पर लाने में भी मदद मिलेगी. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने हाल ही में संकेत दिए थे कि सरकार राज्य में पर्यटन गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए जल्द ही नई पर्यटन नीति लाएगी.

READ More...  करौली: निःशब्द आवासीय मूक बधिर विद्यालय में चल रहा दिव्यांग स्काउट गाइड प्रशिक्षण शिविर

मेलों की नए सिरे से होगी ब्रांडिंग

राजस्थान पर्यटन का महत्वपूर्ण केन्द्र है. इससे लाखों लोगों की आजीविका जुड़ी हुई है. ऐसे में पर्यटन गतिविधियों को प्रोत्साहन देने के लिए लाई जा रही राज्य सरकार की इस नई पर्यटन नीति से रोजगार के अवसर बढ़ने की उम्मीद जताई जा रही है. नई पर्यटन नीति में ज्यादा से ज्यादा देशी एवं विदेशी पर्यटकों को जोड़ने पर फोकस रहेगा. पुष्कर मेला, डेजर्ट फेस्टिवल, कुंभलगढ़ और बूंदी उत्सव सहित विभिन्न मेलों की नए सिरे से ब्रांडिंग किये जाने पर भी जोर रहेगा.