पीएम मोदी के सात दिन और विपक्षी हमले कुंद, शक्तिशाली से गौरवशाली भारत तक

0
45
अंबाला एअरबेस पर पांच राफेल विमान आज पहुंच गए हैं, जिससे भारत की मारक क्षमता ही नहीं बढ़ेगी बल्कि एक शक्तिशाली देश होने का एहसास भी दिलाएगी. वहीं, पीएम मोदी भूमि पूजन में शामिल हो रहे हैं, राम मंदिर को गौरव का प्रतीक माना जा रहा है. इस तरह से अगले सात दिनों तक देश में मोदी सरकार की धमक दिखेगी.

पिछले छह साल से ज्यादा समय से केंद्र की सत्ता पर आसीन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए पिछले छह महीने अच्छे नहीं रहे. चीन के साथ बॉर्डर पर तनातनी जारी है जिसमें हमने अपने कुछ जांबाज भी खो दिए हैं. कोरोना के आंकड़े हर रोज 50 हजार की रफ्तार से बढ़ रहे हैं और अर्थव्यवस्था तबाही के मुहाने पर है. विपक्ष हमलावर है, खासकर कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी एक के बाद एक ट्वीट के जरिए सरकार का सिरदर्द बढ़ा रहे हैं. आपदा के इन हालात में ये हफ्ता मोदी के लिए बड़ा अवसर लेकर आया है. ऐसा अवसर जब वो शक्तिशाली और गौरवशाली भारत के लिए हुंकार भरते दिखेंगे और विपक्ष की आवाज नक्कारखाने की तूती साबित होगी.

शक्तिशाली भारत

अंबाला एयरफोर्स स्टेशन पर फ्रांस से खरीदे गए फाइटर प्लेन राफेल का पांच विमानों का बेड़ा आज लैंड कर गया है. सालों से चल रही लंबी खरीद प्रक्रिया जब फाइलों में फंसती दिख रही थी तब पीएम मोदी ने खुद पहल की और डील को फाइनल कराकर राफेल की जल्द डिलीवरी सुनिश्चित कराई. विपक्ष लगातार इस मुद्दे पर पीएम को घेरता आ रहा है लेकिन रक्षा के जानकार जानते हैं कि राफेल का भारत में आना भारतीय वायुसेना की ताकत को किस कदर बढ़ाएगा और दुश्मन देशों पर भारतीय सेना को कैसे बढ़त दिलाएगा.

ये मोदी के उस शक्तिशाली भारत की तस्वीर है जिसका सपना वो 2014 के चुनाव से पहले से देश की जनता को दिखा रहे हैं. बताया जाता है कि पीएम मोदी खुद इन विमानों के सेना में शामिल होने के औपचारिक समारोह में शामिल हो सकते हैं. तारीखें तय की जा रही हैं.

गौरवशाली भारत

दूसरी ओर अयोध्या में भव्य राम मंदिर के निर्माण के लिए पांच अगस्त को भूमि पूजन किया जाना है. खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भूमि पूजन के कार्यक्रम में मुख्य अतिथि होंगे. भव्य राम मंदिर के निर्माण का सपना बीजेपी तीन दशकों से दिखा रही है लेकिन लोगों को इसे लेकर सबसे ज्यादा भरोसा उस समय जगा जब मई 2014 में नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री बने.

राम मंदिर का रास्ता भले ही सुप्रीम कोर्ट के फैसले से साफ हुआ हो लेकिन बीजेपी समर्थक इसके श्रेय के सवाल पर ‘मोदी है तो मुमकिन है’ ही कहते आ रहे हैं. 5 अगस्त की दोपहर जब प्रधानमंत्री मंदिर का भूमि पूजन करेंगे तो ये सिर्फ मंदिर निर्माण की ही शुरुआत नहीं होगी बल्कि गौरवशाली भारत की उस इमारत की नींव भी रखी जाएगी जिसका सपना मोदी दिखाते आए हैं.

READ More...  अधीर रंजन बोले- विस्तार से जांच करे NIA, मुर्शिदाबाद से पकड़े गए 6 अलकायदा के संदिग्ध आतंकी

ये दोनों ही मुद्दे ऐसे रहे हैं जिनमें मोदी सरकार विपक्ष को पस्त कर चुकी है. राफेल पर चौकीदार चोर है का कांग्रेसी नारा आम चुनाव में टांय-टांस फुस्स हो गया. राम मंदिर आंदोलन को लेकर बीजेपी पर तमाम आरोप लगे लेकिन अब मंदिर निर्माण से पार्टी ने साबित कर दिया है कि उसकी राजनीति सही दिशा में थी. नतीजा ये है कि न तो राफेल और न राम मंदिर पर विपक्ष कुछ बोलने की स्थिति में है.

देश को शक्तिशाली बनाने के लिए शिक्षा, रोजगार चाहिए

वरिष्ठ पत्रकार शकील अख्तर कहते हैं कि मौजूदा समय में मोदी सरकार अर्थव्यवस्था से लेकर चीन तक के मुद्दे पर घिरी हुई है. पिछले 6 साल में जब-जब सरकार घिरी है तब-तब मोदी ने भावनात्मक मुद्दों को ढाल बनाकर जबर्दस्त वापसी की है. राफेल और भूमि पूजन के जरिए निश्चित तौर पर पीएम मोदी विपक्ष के सवालों को फिलहाल बेअसर कर देंगे, लेकिन ये बहुत दिन तक नहीं चलेगा, क्योंकि विपक्ष के मुद्दे वास्तविक और लोगों से जुड़े हुए मुद्दे हैं.

शकील अख्तर कहते हैं कि पिछले एक साल में मोदी ने 370, तीन तलाक, सीएए और राममंदिर जैसे अहम मुद्दे को हल करने का काम किया है. मोदी अपनी राजनीति के शिखर पर हैं, लेकिन अगले चार साल में उन्हें देश को वास्तविक रूप से शक्तिशाली और गौरवशाली बनाने की दिशा में काम करना होगा. प्रतीकात्मक राजनीति से सियासी फायदा तो मिलेगा लेकिन देश को शक्तिशाली बनाने के लिए शिक्षा, रोजगार और अर्थव्यवस्था को मजबूती देनी होगी.

विपक्ष सोचे उसके मुद्दों को क्यों नहीं मिल रही अहमियत?

वहीं, वरिष्ठ पत्रकार केजी सुरेश कहते हैं कि राफेल की डिलीवरी पहले से तय थी और सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद राम मंदिर का निर्माण भी होना ही था. यह इत्तेफाक है कि राफेल और भूमि पूजन की तारीख एक सप्ताह के अंदर पड़ गई. केजी सुरेश इंदिरा गांधी की याद दिलाते हुए कहते हैं कि 1982 में देश में एशियाई खेल होने थे. इंदिरा गांधी देश की प्रधानमंत्री थीं. पत्रकारों ने इंदिरा गांधी ने पूछा था कि देश में गरीबी और अशिक्षा के बीच एशियाड कराना कितना ठीक है? इस पर इंदिरा गांधी ने जवाब देते हुए कहा था कि क्या खेलकूद बंद कर देना चाहिए. जीवन धारा प्रवाह चलता रहता है.

के जी सुरेश कहते हैं कि देश की सीमा पर आज दोनों ओर से खतरे हैं और ऐसे में राफेल डिलीवरी राष्ट्र के लिए गौरव की बात है. कोर्ट का फैसला आने के बाद राममंदिर का निर्माण शुरू होना देश के लिए गौरव की बात है. इसका राजनीतिक फायदा कितना और किसे होगा ये बात मायने नहीं रखती. विपक्ष की जहां तक बात है यह उसे समझना होगा कि जिन मुद्दों को वह उठा रहा है उसे क्यों अहमियत नहीं मिल रही है.