पुलिसकर्मियों में आत्महत्या की घटनाएं रोकने के लिए सीएम गहलोत ने दिया ‘हीलिंग टच’ फार्मूला

0
106

जयपुर : सीएम अशोक गहलोत ने पुलिसकर्मियों में बढ़ रही आत्महत्या की घटनाओं को रोकने के लिए ‘हीलिंग टच’  का फार्मूला दिया है. सीएम ने डीजीपी से लेकर थाना इंचार्ज तक को अपने जूनियर्स की समस्याओं को समझ कर उन्हें इमोशनल सहारा देने को कहा है. सीएम ने कहा कि कुछ पुलिसकर्मियों द्वारा आत्महत्या करने की जो घटनाएं हुई हैं वे दुखद और चिंताजनक हैं. डीजीपी से लेकर थानाप्रभारी स्तर तक अधिकारियों की जिम्मेदारी है कि वे अपने अधीनस्थ कार्मिकों की समस्याओं को समझें और उन्हें दूर करने के लिए भावनात्मक संरक्षण दें.

आवश्यकतानुसार मनोवैज्ञानिक काउंसलिंग करवाएं
सीएम गहलोत ने पिछले दिनों पुलिसकर्मियों द्वारा की गई आत्महत्या की घटनाओं पर पर चिंता जताते हुए कहा कि ड्यूटी या अन्य किसी कारण से कोई पुलिसकर्मी अवसाद की स्थिति में है तो उसकी मनोस्थिति समझकर आवश्यकतानुसार मनोवैज्ञानिक काउंसलिंग करवाएं. सीएम ने कहा कि सरकार पुलिस के मनोबल तथा सम्मान को ऊंचा रखने में कोई कसर नहीं रखेगी. शुक्रवार को सीएम अशोक गहलोत ने पुलिसकर्मियों से वीसी के जरिए संवाद स्थापित किया था. इसमें पहली बार थानाधिकारी स्तर के अधिकारी भी शामिल हुए थे.

इसलिए दिया सीएम ने दखल

इस संवाद में हाल में चूरू जिले के राजगढ़ थानाप्रभारी सीआई विष्णुदत्त बिश्नोई सहित प्रदेश के अन्य इलाकों में पुलिसकर्मियों द्वारा की आत्महत्याओं का मामला प्रमुखता से उठा. मई माह के आखिरी सप्ताह लेकर सीआई विष्णुदत्त समेत अब तक चार पुलिसकर्मी आत्महत्या कर चुके हैं. पुलिसकर्मियों की आत्महत्याओं के पीछे कई बार आला अफसरों का असंवेदनशील रवैया भी जिम्मेदार रहता है. समय पर सुनवाई नहीं करने से हालात और विकट हो जाते हैं. यही कारण है कि पूरे मसले में सीएम गहलोत ने दखल देते हुए पुलिसकर्मियों से सीधे संवाद साधा.

READ More...  अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने दावा किया कि अहमदाबाद में उनके स्वागत के लिए एक करोड़ लोग सड़कों पर होंगे

पुलिस कोराना काल में बनी अपनी गुडविल आगे भी बनाए रखे
संवाद के दौरान डीजीपी भूपेन्द्र सिंह ने कहा कि लॉकडाउन के बाद पैदा हुई स्थितियों में पुलिस ने बेहतरीन ढंग से काम करते हुए अपनी जो गुडविल बनाई है उसे वे आगे भी बनाए रखें. राजस्थान पुलिस में शामिल करीब एक लाख पुलिसकर्मियों के साथ ही 15 हजार होमगार्ड और 24 हजार पुलिस मित्रों ने एक साथ मिलकर इस चुनौती का मजबूती से सामना किया है. उन्होंने कहा कि तमाम विषम परिस्थितियों के बावजूद पुलिसकर्मी अपना सर्वोत्तम देने का प्रयास करें.