कब्‍जे की शिकायत पर 5 परिवारों का हुक्का-पानी किया बंद, खाप पंचायत का तुगलकी फरमान

0
33
राजस्थान के बूंदी जिले में खाप पंचायत का क्रूर चेहरा सामने आया है. खाप पंचायत ने दबंगों की शिकायत करने वाले 5 परिवारों को समाज से बहिष्कृत कर दिया है.

 

बूंदी. राजस्थान में खाप पंचायतों की मनमानी पर रोक नहीं लग पा रही है. खाप पंचायतें अपने तुगलकी फरमानों से जमकर अत्याचार का चाबुक चला रही हैं. ताजा मामला बूंदी जिले में सामने आया है, जहां दबंगों द्वारा सरकारी भूमि पर किये जा रहे अतिक्रमण की शिकायत पुलिस से करना 5 लोगों को भारी पड़ गया. दबंगों ने 12 गांवों की खाप पंचायतों को बुलाकर शिकायत करने वाले 5 परिवारों को समाज से बहिष्कृत कर उनका हुक्का-पानी बंद करवा दिया. इसके साथ ही यह फरमान भी सुना दिया गया कि अगर कोई पंचायत के फैसले के खिलाफ जायेगा तो उसे 51 हजार रुपये का जुर्माना भरना पड़ेगा.

जानकारी के अनुसार, मामला बूंदी जिले के बसोली थाना क्षेत्र के बहादुरपुरा गांव से जुड़ा है. पिछले दिनों गांव में स्थित तलाई की 32 बीघा चरागाह भूमि पर गांव के दबंग 6 परिवारों ने कब्जा कर लिया था. इस पर गांव के ही 5 अन्य परिवारों ने इसकी शिकायत बसोली थाना पुलिस और हिंडोली उपखंड अधिकारी से कर दी. शिकायत करने की जानकारी जैसे ही कब्जा करने वाले दबंगों को लगी तो उन्होंने शुक्रवार को आसपास के 12 गांव की खाप पंचायत बुला ली. पंचायत में मौजूद पंच-पटेलों ने शिकायतकर्ता जगदीश, छितर, मोडू, सुखदेव, राधाकिशन और अन्य के परिवारों को समाज से बहिष्कृत कर उनका हुक्का पानी बंद करने का तुगलकी फरमान सुना दिया.

 

किसी का पानी तक नहीं पी सकते

READ More...  Rajasthan Police Day: डीजीपी सिंह ने दिया भावुक संदेश, कहा- मुझे गर्व है आप जैसे कर्मवीरों पर

पीड़ित परिवार के सदस्यों ने बताया कि इस बात को लेकर वे कई बार बसोली थाने पर गए, लेकिन वहां भी कोई सुनवाई नहीं हो रही है. पीड़ितों के अनुसार, वे न तो दूसरे गांव में जा सकते हैं और न किसी का पानी पी सकते हैं. दूसरी तरफ, गांव में पांच परिवारों को समाज से बहिष्कृत करने की सूचना पाकर मौके पर पहुचे बसोली थानाप्रभारी भंवर सिंह राणावत दोनों पक्षों के लोगों से समझाइश कर मामले को शांत करवाने के प्रयास करने में जुटे हैं. राणावत के अनुसार ये प्रयास सफल नहीं होने पर दबंगों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी.