झुंझुनूं का सपूत छत्रपाल सिंह जम्मू-कश्मीर में हुआ शहीद

0
113

झुंझुनूं : राजस्थान (Rajasthan) के एक और लाडले सपूत ने देश सेवा में अपने प्राण न्यौछावर कर दिए हैं. जम्मू एवं कश्मीर (Jammu and Kashmir) में रविवार को एलओसी पर घुसपैठ करने का प्रयास कर रहे आतंकवादियों से लोहा लेते हुए झुंझुनूं जिले के छत्रपाल सिंह शहीद (martyr) हो गए हैं. छत्रपाल सिंह के शहादत की सूचना मिलते गांव में सन्नाटा पसर गया. सीएम अशोक गहलोत ने शहीद की शहादत को सलाम करते हुए परिजनों को यह दुख सहन करने की शक्ति प्रदान करने की प्रार्थना की है.

15 घंटे चली मुठभेड़
जिला सैनिक कल्याण अधिकारी ने बताया कि 23 वर्षीय छत्रपाल सिंह झुंझुनूं जिले के छावसरी गांव के रहने वाले थे. रविवार को जम्मू-कश्मीर में कुछ आतंकवादी घुसपैठ का प्रयास कर रहे थे. इस दौरान उनकी उनकी सेना से मुठभेड़ हो गई. करीब 15 घंटे चली इस मुठभेड़ में छत्रपाल शहीद हो गए. छत्रपाल सिंह 5 साल पहले सेना में भर्ती हुए थे. वे सेना में पैरा ट्रूपर के पद पर तैनात थे.

संभवतया मंगलवार को लाई जाएगी पार्थिव देह

सैनिक कल्याण अधिकारी बताया कि उन्हें छत्रपाल सिंह के शहीद होने की सूचना सोमवार को सुबह मिली है. इसके बाद जिला प्रशासन के माध्यम से शहीद के परिजनों को शहादत की सूचना दे दी गई है. शहीद की पार्थिह देह संभवतया मंगलवार को झुंझुनूं लाई जाएगी. शहीद के घर पर लोगों का आना-जाना शुरू हो गया है.

9 मार्च को ही वापस ड्यूटी पर गया था छत्रपाल
ग्रामीणों के अनुसार छत्रपाल महज 18 साल की उम्र में ही देश सेवा के लिए चला गया था. अभी छत्रपाल सिंह का विवाह भी नहीं हुआ है. शहीद छत्रपाल सिंह हाल ही में 29 दिन की छुट्टी काटकर 9 मार्च को ही ड्यूटी पर गया था. उनके पिता सुरेशपाल सिंह और मां शशिकला को भी बेटे के शहीद होने की सूचना दे दी गई है. इसके बाद से ही दोनों सदमे में हैं.

READ More...  अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने दावा किया कि अहमदाबाद में उनके स्वागत के लिए एक करोड़ लोग सड़कों पर होंगे