अयोध्या भूमि विवाद: फैसले से पहले जयपुर समेत 5 जिलों में इंटरनेट सेवाएं बंद, धारा 144

0
484

जयपुर. अयोध्या के रामजन्म भूमि बाबरी मस्जिद विवाद (Ayodhya land dispute case) को लेकर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) शनिवार सुबह फैसला सुनाएगी. इसके चलते एहतियात के तौर पर राजस्थान की राजधानी जयपुर में धारा 144 लगा दी गई है. साथ ही जयपुर समेत प्रदेश के अन्य शहरों में संवेदनशील स्थानों पर पुलिस जाप्ता तैनात किया गया है. वहीं जयपुर और भरतपुर संभाग के 5 जिलों में इंटरनेट सेवाएं बंद (Internet services suspended) कर दी गई है. प्रदेश की अशोक गहलोत सरकार ने सवा लाख जवानों को अलर्ट मोड पर रखा है. सीएम गहलोत ने प्रदेशवासियों से अपील की है कि शांति और सद्भाव बनाए रखें. हमारे सामाजिक सौहार्द पर कोई असर न पड़े. सभी धर्मों, जाति एवं समुदायों में आपसी सद्भाव एवं भाईचारे की हमारी महान परम्परा रही है.

यहां इंटरनेट सेवाएं रहेंगी बंद
जयपुर के अतिरिक्त भरतपुर संभाग के भरतपुर(bharatpur), धौलपुर(dholpur), करौली(karauli) और सवाई माधोपुर (sawai madhopur) जिलों में एहतियात के तौर पर अगले 24 घंटे के लिए इंटरनेट सवांए बंद की गई हैं. शनिवार सुबह 6 बजे से रविवार 10 नवंबर सुबह 6 बजे तक मोबाइल सेवाएं स्थिगित रखी गई हैं. सोशल मीडिया पर अफवाहों की रोकथाम के लिए यह कदम उठाया गया है.

कानून व्यवस्था चाक चौबंद, प्रमुख स्थानों की निगरानी
प्रदेश में कानून व्यवस्था को चाक चौबंद किया गया है. पुलिस लाइन में जवानों को किसी भी स्थिति से निपटने के लिए अलर्ट मोड पर रखा गया है और सभी 33 जिलों के प्रमुख स्थानों पर सीसीटीवी कैमरों से निगरानी रखी जा रही है. संवेदनशील इलाकों में पुलिस जाप्ता तैनात किया गया है. इस सुरक्षा व्यवस्था को लेकर शुक्रवार को डीजीपी डॉ. भूपेन्द्र यादव और चीफ सेक्रेटरी डीबी गुप्ता के बीच बैठक हुई थी. राजधानी जयपुर में भी पुलिस अलर्ट मोड पर है.

READ More...  दिल्ली-NCR और राजस्थान में बारिश और ओले गिरने से ठंड बढ़ी , किसानों की फसलें हुई चौपट

सोशल मीडिया पर सतर्कता, भड़काऊ पोस्ट शेयर करने पर कार्रवाई
पुलिस कमिश्नर आनंद श्रीवास्तव के अनुसार साम्प्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने की कोशिश करने वालों और सोशल मीडिया पर भड़काऊ पोस्ट शेयर करने वालों पर कार्रवाई की जाएगी. ऐसा न हो इसके लिए सोशल मीडिया पर पूरी निगरानी रखी जा रही है. उन्होंने लोगों से किसी भी तरह की अफवाह न फैलाने और सुनी-सुनाई बातों, अफवाहों पर यकीन न करने की अपील की है.