राज्यसभा का रण: 13 निर्दलीय विधायकों ने अब CM गहलोत के सामने रखी यह डिमांड

0
138

जयपुर. राजस्थान (Rajasthan) के राज्यसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी का समर्थन कर रहे निर्दलीय विधायकों ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) के सामने अपनी डिमांड लिस्ट रख दी है. सीएम गहलोत के साथ होटल जेडब्ल्यू मैरियट में हुई बैठक के बाद सभी 13 निर्दलीय विधायकों (Independent MLAs) ने खुद के क्षेत्र के विकास और शासन- प्रशासन में लंबित कामों का मुद्दा उठाया. सरकार को समर्थन दे रहे 13 निर्दलीय विधायकों के साथ सीएम अशोक गहलोत ने अलग से चर्चा की. निर्दलीय विधायकों के साथ सीएम ने वन टू वन संवाद किया. राज्यसभा चुनावों से पहले इन सभी विधायकों ने एकजुटता से कांग्रेस उम्मीदवार के पक्ष में वोटिंग करने और एकजुटता बनाए रखने का आश्वासन दिया है.

सभी 13 निर्दलीय विधायक सीएम की बैठक में उपस्थित थे. निर्दलीय विधायकों ने सीएम के सामने विकास से जुड़ी मांगें रखीं. निर्दलीय विधायकों ने मनरेगा में 100 दिन से बढ़ाकर 200 दिन काम देने की मांग की. साथ ही मनरेगा में 200 दिन काम के लिए पीएम की 17 जून को हो रही वीसी में मुद्दा उठाने का सुझाव दिया. ज्यादा गर्मी के कारण नरेगा में काम का समय कम करने की भी मांग रखी गई है.

सीएम अशोक गहलोत से अभी राजनीतिक मांग नहीं की

गहलोत के साथ बैठक के बाद निर्दलीय विधायकों ने कहा कि अभी सीएम से कोई राजनीतिक मांग नहीं की है. लेकिन राज्यसभा चुनाव की वोटिंग के बाद इन विधायकों ने फिर सीएम के साथ बैठक का समय मांगा है. बताया जाता है कि निरर्दलीय विधायक राज्यसभा चुनाव के बाद सत्ता में भागीदारी की मांग करेंगे. निर्दलीय कम से कम एक कैबिनेट मंत्री का कद चाहते हैं.

READ More...  पंचायत चुनाव-2020: सीनियर वोटर बने मिसाल,दूसरे चरण का मतदान जारी

13  में से 11 निर्दलीय कांग्रेस के जीते हुए बागी

अभी विधानसभा में 13 निर्दलीय विधायक हैं और सभी कांग्रेस सरकार का समर्थन कर रहे हैं. ओमप्रकाश हुड़ला और सुरेश टाक को छोड़ सभी पुराने कांग्रेसी हैं. संयम लोढ़ा, आलोक बेनीवाल, कांति प्रसाद मीणा, खुशवीर सिंह जोजावर, बलजीत यादव, महादेव सिंह खंडेला, रमिला खड़िया, रामुकमार गौड़, रामकेश मीणाा, और लक्ष्मण मीणा कांग्रेस की ही पृष्ठभूमि के हैं.