हनुमान बेनीवाल और पुलिस के बीच वार्ता सफल, 4 दिन बाद थाने के बाहर धरना समाप्त

0
47

नागौर. खींवसर थाने (Khimsar Police Station) के बाहर चंपालाल गौड़ (Champalal Gaur) हत्याकांड में आरोपियों की गिरफ्तारी और थानेदार पर कार्रवाई की मांग को लेकर पिछले चार दिन से धरने पर बैठे ग्रामीणों की मांगों को पुलिस प्रशासन ने मान लिया है. नागौर सांसद हनुमान बेनीवाल (MP Hanuman Beniwal) और पुलिस प्रशासन (Nagaur Police) के बीच अंतिम दौर की वार्ता सफल रहने के बाद धरना समाप्त करने की घोषणा कर दी गई है. सांसद बेनीवाल ने बताया कि मृतक के परिजनों के साथ उनकी रेंज आईजी के साथ वार्ता सफल रही है. धरना स्थल पर नागौर एडिशनल एसपी ने खींवसर थाना अधिकारी को हटाने की घोषणा की है. इस अवसर पर रेंज आईजी और नागौर एसपी भी मौजूद रहे. हालांकि अन्य किन-किन बातों पर पुलिस और मृतक परिवारों के बीच सहमति बनी है इसकी अधिकारिक पुष्टि फिलहाल नहीं हो सकी है.

1 लाख रुपए आर्थिक सहायता की घोषणा

खींवसर थाना इलाके में चार दिन पहले किसान चंपालाल गौड़ की हत्या कर दी गई थी. इसी को लेकर में बुधवार को खींवसर थाने का घेराव किया गया. राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी (RLP) के राष्ट्रीय संयोजक और नागौर सांसद हनुमान बेनीवाल की अगुवाई में बड़ी संख्या में किसान थाने पर डेरा डाले रहे लेकिन पुलिस के साथ उनकी वार्ता विफल रही. इधर, सांसद बेनीवाल की ओर से पीड़ित परिवार के लिए 1 लाख रुपए की आर्थिक सहायता की घोषणा भी की गई है.

ये है पूरा मामला

किसान चंपालाल हत्याकांड खींवसर के पांचला सिद्धा के थांबडियासर गांव में एक जमीन विवाद से जुड़ा है. यहां रविवार को चंपालाल के पीछे ट्रेक्टर दौड़ाते हुए उसकी हत्या कर दी गई थी. जानकारी के अनुसार चंपालाल (57) ने 20 साल पहले जमीन खरीदी थी. और उसी जमीन यानी खेत पर कब्जा किए बैठे साटिका के रहने वाले उम्मेद सिंह और उसके साथियों ने रविवार को चंपालाल के पीछे ट्रेक्टर दौड़ाना शुरू कर दिया. ट्रेक्टर से कुचलकर मारने के उनके इरादों को समझ चंपालाल जान बचाने के लिए भागता रहा. और आखिर हांफने से उसकी मौके पर मौत हो गई.

READ More...  IND vs WI: पहले वनडे मैच पर काले बादलों का साया, क्या बारिश बर्बाद करेगी मैच?