Rajasthan Budget 2020: पुलिस बेड़े को मजबूत करने के लिए बजट में कई घोषणाएं

0
231

जयपुर: राजस्थान के पुलिस बेड़े को मजबूत करने के लिए सीएम अशोक गहलोत की ओर से बजट में कई घोषणा की गई है. इन घोषणाओं के बाद देश का पुलिस बेड़ा और अच्छे ढंग से नए संसाधनों के साथ मजबूती से काम कर सकेगा. प्रदेश पुलिस के वाहनों को लेकर हमेशा से सवाल उठते रहे हैं. इन वाहनों की कमी को पूरा करने के लिए बजट में वाहनों के लिए 70 करोड़ रुपये की घोषणा की गई है. जिससे कि विभाग को 1682 नए वाहन मिल सकेंगे. इसके साथ ही इमरजेंसी रिस्पांस सपोर्ट सिस्टम को भी मजबूत करने के लिए 100 करोड रुपए प्रस्तावित किए गए हैं.

पुलिस बेड़े को मिलेगी मजबूती:
माफिया गिरोहों से निपटने के लिए एसओजी में दो नए फील्ड यूनिट भी स्वीकृत किए गए हैं. इसके साथ ही एक नई एंटी नारकोटिक्स यूनिट का भी गठन किया जाएगा. पश्चिम राजस्थान के उद्योगों को भी मजबूत करने के लिए वहां की चौकियों को मजबूत व थानों को क्रमोन्नत करने की घोषणा की गई है. इसके साथ ही प्रदेश में जयपुर में एकमात्र डीएनए टेस्ट के लिए प्रयोगशाला है, जिसे बढ़ाकर अब जोधपुर अजमेर में भी नए खंड स्थापित किए जाएंगे.

-राजस्थान के पुलिस बेड़े को बजट से मिलेगी मजबूती
-बजट घोषणा में वाहनों के लिए 70 करोड़ की घोषणा
-पुलिस विभाग को मिलेंगे 1 हजार 682 नये वाहन
-ईआरएसएस के तहत पायलट बेसिस पर शुरु होगी योजना
-अलवर व भरतपुर जिले से शुरु होगी योजना
-इमरजेंसी रेस्पोंस सपोर्ट सिस्टम के लिए 100 करोड़ रुपये प्रस्तावित
-एसओजी में 2 नये फील्ड यूनिट्स किये जायेंगे स्वीकृत
-माफिया गिरोहों के खिलाफ चलाया जा रहा अभियान होगा मजबूत
-SOG में एक नई एंटी नारकोटिक यूनिट का होगा गठन
-पश्चिमी राजस्थान में उधोगों के लिए होगी अतिरिक्त सुरक्षा व्यवस्था
-रिफाइनरी, तेल उत्पादन, सौर व पवन उर्जा जैसे उधोग होंगे सुरक्षित
-बीकानेर, जोधपुर, बाड़मेर व जैसलमेर के थानों को मिलेगी अतिरिक्त मोबाईल युनिट
-चिन्हित थानों होंगे क्रमोन्नत तथा पुलिस चौकिया होगी सुदृढ
-जयपुर के बाद जोधपुर व अजमेर में भी होगी DNA टेस्ट के लिए प्रयोगशाला

READ More...  निकाय चुनाव: BJP ने जारी किया अपना 'दृष्टि-पत्र', इन 44 बिन्दुओं को किया शामिल

सड़क दुर्घटनाओं को रोकने के लिए सरकार ने दिखाई गंभीरता: 
सड़क दुर्घटनाओं को रोकने के लिए भी बजट में सरकार ने गंभीरता दिखाई है. सीएम अशोक गहलोत ने तमिलनाडु मॉडल को भी राजस्थान में लागू करने की बात कही है. इसके लिए राजस्थान में सीएम की अध्यक्षता में एक कमेटी बनाई जाएगी. जिसमें संबंधित मंत्री, सीएस, डीजीपी, एडीजी ट्रैफिक सहित एसीएस शामिल होंगे, जो कि साल में दो बार दुर्घटनाओं को लेकर उनकी स्थिति की समीक्षा करेंगे.

इसके अलावा सड़क सुरक्षा कोष में 100 करोड रुपए की राशि भी दी जाएगी. जिला स्तर पर सड़क दुर्घटनाओं को रोकने के लिए बेहतरीन कार्य हो सके. इसलिए प्रदेश के सड़क दुर्घटनाओं को रोकने में बेहतरीन काम करने वाले 3 जिलों को मुख्यमंत्री सड़क सुरक्षा पुरस्कार दिया जाएगा जिसके तहत पहले जिले को 25 लाख, दूसरे जिले को 15 लाख और तीसरे जिले को 10 लाख रुपए का पुरस्कार दिया जाएगा.

-सड़क दुर्घटनाओं को रोकने के लिए सरकार गंभीर
-तमिलनाडु मॉडल को प्रदेश में किया जाएगा लागू
-सीएम की अध्यक्षता में बनायी जायेगी एक कमेटी
-संबंधित मंत्री, सीएस, डीजीपी, एडीजी ट्रैफिक होंगे शामिल
-साल में 2 बार दुर्घटनाओं की स्थिति की करेगी समीक्षा
-सड़क सुरक्षा कोष में दी जायेगी 100 करोड़ की राशी
-उत्कर्ष्ठ तीन जिलो को मुख्यमंत्री सड़क सुरक्षा पुरस्कार दिया जायेगा

बजट घोषणा में आमजन की सुविधा एवं सुरक्षा के साथ-साथ प्रदेश के पुलिस विभाग को भी मजबूती देने का काम किया गया है. साथ ही सड़क दुर्घटना जो कि एक बड़ी चुनौती प्रदेश के लिए बन गई है. उसे रोकने के लिए भी बेहतरीन मॉडल तैयार किए जाने की घोषणा की गई है.उम्मीद है कि इन घोषणाओ के पूरे होने के बाद प्रदेश आमजन के लिए ओर भी सुरक्षित हो पायेगा.