राजस्थान जयपुर: विश्वविद्यालयों में बनाए जाएंगे ‘संविधान पार्क’, राजभवन में बनेगा ‘विश्वविद्यालय पार्क’

0
134

जयपुर: प्रदेश के सभी विश्वविद्यालयों में संविधान पार्कों का निर्माण किया जाएगा. विश्वविद्यालयों के परिसरों में निर्मित इन संविधान पार्को में संविधान की प्रस्तावना और संविधान की धारा 51 (क) में उल्लेखित मूल कर्तव्यों प्रदर्शित किया जायेगा. वहीं राजधानी जयपुर स्थित राजभवन में विश्वविद्यालय पार्क बनाया जायेगा. इस पार्क में राज्य के प्रत्येक विश्वविद्यालय द्वारा निर्मित स्मार्ट मॉडल्स का प्रदर्शन होगा. राजभवन में विश्वविद्यालय पार्क विकसित करने के बाद इसे आम लोगों लिए भी खोला जायेगा.

मौलिक कर्तव्य संविधान का प्रमुख स्तम्भ
राज्यपाल कलराज मिश्र ने शुक्रवार को जयपुर में राजभवन में प्रदेश के सरकारी विश्वविद्यालयों के कुलपतियों की बैठक ली. इस दौरान राज्यपाल मिश्र ने कहा देश के संविधान की प्रस्तावना संविधान की मूल भावना है और मौलिक कर्तव्य संविधान का प्रमुख स्तम्भ है. विश्वविद्यालयों में भारत के संविधान पर भाषण प्रतियोगिता कराई जाये ताकि युवाओं को संविधान की जानकारी हो सके. राज्यपाल ने कहा कि राजभवन राज्य का प्रतीक होता है. इसलिए राजभवन में एक विश्वविद्यालय पार्क बनाया जायेगा. राज्यपाल ने सभी कुलपतियों को मॉडल का विषय तय करने और उस पर कार्य करने की 100 दिन की समय सीमा निश्चित की है.

राज्यपाल ने विश्वविद्यालयों में इन नवाचारों पर दिया जोर

 विश्वविद्यालयों में संविधान पार्क विकसित होंगे.
 सभी विश्वविद्यालयों को एक सूत्र में बांधा जायेगा.
 अंतर विश्वविद्यालय क्रीड़ा उत्सव मनेगा. भारत के संविधान पर वाद-विवाद प्रतियोगिता होगी.
 विश्वविद्यालयों में वृक्षारोपण अभियान चलाया जाएगा.
 विश्वविद्यालयों में रेन वाटर हार्वेस्टिंग-ग्राउण्ड वाटर रिचार्ज सिस्टम बनाने होंगे.
 विश्वविद्यालय परिसर नशा मुक्त और सिंगल यूज प्लास्टिक मुक्त होंगे.
राज्यपाल विश्वविद्यालयों के गोद लिए गए गांवों का अगले माह से दौरा करेंगे.

READ More...  मध्य प्रदेश: दो सीटों पर बीजेपी का कब्जा, कांग्रेस से जीते दिग्विजय सिंह

 युवाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए कौशल विकास से जोड़ा जायेगा.
 राजभवन को सूचना देने के लिए विश्वविद्यालयों में नोडल अधिकारी नियुक्त होंगे.
 विश्वविद्यालयों को स्मार्ट बनाने के लिए राजभवन स्तर पर समिति बनेगी.
 परीक्षा प्रणाली में सुधार होगा और केन्द्रीय मूल्याकंन पद्यती लागू करनी होगी.
 लंबे समय तक एक ही व्यक्ति परीक्षा नियन्त्रक नहीं रहेगा.

राज्यपाल ने जताई चिन्ता
बैठक में राज्यपाल कलराज मिश्र ने इस बात पर चिंता जताई कि देश के टॉप 100 विश्वविद्यालयों में राजस्थान से एक भी नहीं है. उन्होंने बैठक में कुलपतियों से कहा कि वे उच्च शिक्षा के क्षेत्र में विद्यार्थियों के बढ़ते नामांकन को देखते हुए गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करने अनवरत प्रयास करें.