राजभवन ने लौटा दी सत्र बुलाने की फाइल, राजस्थान मामले पर कुछ देर में कोर्ट में सुनवाई

0
103
राजस्थान में सियासी घमासान जारी है और आज इसको लेकर सुप्रीम कोर्ट और हाईकोर्ट दोनों में सुनवाई होनी है. दूसरी ओर कांग्रेस ने राजनीतिक लड़ाई लड़ने का ऐलान कर दिया है.
  • राजस्थान में जारी है सियासी संग्राम
  • आज सुप्रीम कोर्ट से लेकर हाईकोर्ट तक सुनवाई

राजस्थान में जारी सियासी दंगल अब कई मोर्चों पर लड़ा जा रहा है. सचिन पायलट और अशोक गहलोत के बीच जो जंग सत्ता को लेकर शुरू हुई थी, अब उसने कानूनी रूप ले लिया है और कई पार्टियां इसमें शामिल हो चुकी हैं. सोमवार को सुप्रीम कोर्ट में राजस्थान विधानसभा स्पीकर सीपी जोशी की याचिका पर सुनवाई होगी, जिसमें उन्होंने हाईकोर्ट के द्वारा उनके नोटिस पर लगाए गए स्टे पर सवाल खड़े किए हैं. इसके अलावा हाईकोर्ट में भी इस पूरे दंगल से जुड़ी एक सुनवाई होनी है.

बड़े अपडेट:

10.26 AM: अब से कुछ देर में राजस्थान स्पीकर की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई शुरू होगी. पिछली सुनवाई में अदालत ने HC के फैसले का इंतजार करने को कहा था.

09.50 AM: राजस्थान के राजभवन ने एक बार फिर विधानसभा सत्र बुलाने की अपील को ठुकरा दिया है. राजभवन की ओर से फाइल को संसदीय कार्य विभाग को वापस दिया गया और कुछ सवाल पूछे गए.

07.50 AM: राजस्थान में अब कांग्रेस की ओर से राजभवन का घेराव नहीं किया जाएगा. पार्टी को डर है कि अगर ऐसा हुआ तो राजस्थान में राष्ट्रपति शासन लग सकता है. यही कारण है कि इस फैसले को अभी रोक दिया गया है.

सुप्रीम कोर्ट में किस मामले की सुनवाई होगी?

सचिन पायलट गुट की याचिका पर राजस्थान हाईकोर्ट ने बीते हफ्ते फैसला सुनाया था. जिसमें स्पीकर द्वारा दिए गए नोटिस पर स्टे लगा दिया गया, जिससे पायलट गुट को अयोग्य करार दिए जाने से राहत मिल गई. इसी मामले पर स्पीकर ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था, जिसपर अब सुनवाई होगी. सर्वोच्च अदालत में स्पीकर और कोर्ट के अधिकार पर मंथन हो सकता है.

READ More...  Covid वॉरियर्स के बच्चों के लिए MBBS में 5 सीटें होंगी रिजर्व- स्वास्थ्य मंत्री

जंग में बसपा की एंट्री, HC तक गुहार

राजस्थान की इस सियासी जंग में बहुजन समाज पार्टी की धमाकेदार एंट्री हुई है. बसपा ने अपने उन 6 विधायकों के नाम व्हिप जारी किया है, जो कांग्रेस का दामन थाम चुके हैं. दावा किया है कि वोटिंग में कांग्रेस के खिलाफ वोट करें, अन्यथा उन्हें अयोग्य साबित किया जा सकता है. व्हिप से इतर हाईकोर्ट में याचिका डालकर 10th शेड्यूल के मसले को उठाया गया है, जिसपर सोमवार को ही सुनवाई होनी है.

अब राजनीतिक लड़ाई लड़ेगी कांग्रेस

राजस्थान का पूरा मामला अब कानूनी हो चला है, लेकिन कांग्रेस की ओर से इस लड़ाई को राजनीतिक बनाने की भी कोशिश है. राज्यपाल के द्वारा अभी विधानसभा का सत्र बुलाने से इनकार किया गया है. इसके अलावा देश के अलग-अलग राजभवन, जिला मुख्यालय के घेराव की बात कही गई है.

आपको बता दें कि अशोक गहलोत की ओर से कई बार अपील की गई है कि विधानसभा का सत्र बुलाया जाए, ताकि सरकार बहुमत साबित कर सके. हालांकि, राज्यपाल ने अभी कोरोना वायरस का हवाला दिया है. इसको लेकर कांग्रेस विधायक राजभवन में धरने पर भी बैठे थे. साथ ही अशोक गहलोत से लेकर राहुल गांधी, प्रियंका गांधी ने भी भाजपा पर निशाना साधा था.