आज होगा राजस्थान की सुनीता कंवर सरपंच प्रत्याशी के भाग्य का फैसला

0
382

राजस्थान के सीकर (Sikar) जिले की नांगल (Nagal) पंचायत के सरपंच चुनाव (Sarpanch Chunav) के नतीजे आज मतदान के बाद घोषित होंगे. यहां 13 साल से दुबई में रह रही सुनीता कंवर (Sunita Kanwar) ने 25 लाख रुपए के सैलरी पैकेज छोड़ चुनाव लड़ा है

जयपुर : राजस्थान के सीकर (Sikar) जिले की नांगल (Nagal) पंचायत के सरपंच चुनाव (Sarpanch Chunav) के नतीजे आज मतदान के बाद घोषित होंगे. यहां 13 साल से दुबई में रह रही सुनीता कंवर (Sunita Kanwar) ने 25 लाख रुपए के सैलरी पैकेज छोड़ चुनाव लड़ा है. अगली स्लाइड़स में पढ़ें, दुबई में 25 लाख रुपए का सैलरी पैकेज छोड़ सरपंच चुनाव लड़ने पहुंचीं गांव बहू

सुनीता कंवर पिछले 13 साल से दुबई में रह रही थी. इस राजस्थानी बहू ने अपनी मॉडर्न लाइफ स्टाइल छोड़ गांव की संस्कारी बहू के रूप में न सिर्फ पहचान बनाई है बल्कि कुछ ही दिनों में अपने चुनाव प्रचार के दौरान लोगों के लिए कुछ करने का जज्बा भी दिखाया है.  गल (nagal) गांव की बहू सुनीता कंवर विदेश में रहते हुए एक शिपिंग कंपनी में करीब 25 लाख रुपए के पैकेज पर काम भी कर रही थीं लेकिन हाल ही वो अपने पति जोधा सिंह शेखावत के साथ गांव लौटी हैं और गांव की सरकार में दखल बनाने सरपंच चुनाव (sarpanch elections) लड़ रही हैं.

राजस्थान में पंचायतीराज आम चुनाव 2020 (Sarpanch Chunav) के दूसरे चरण का चुनाव 22 जनवरी को होगा. प्रदेश की 74 पंचायत समितियों की 2,333 ग्राम पंचायतों में चुनाव हो रहे हैं. इन्हीं में श्रीमाधोपुर पंचायत समिति के नांगल गांव में चुनाव होगा. यहां गांव की बहू सुनीता कंवर चुनाव लड़ रही है.36 वर्षीय सुनीता कंवर दुबई की लग्जरी लाइफ छोड़कर गांव के विकास का सपना लेकर आई हैं.सुनीता दुबई में अपने पति के साथ रहती थीं और एक शिपिंग कंपनी में जॉब करती थीं.

READ More...  Delhi smog reaches Jaipur: जयपुर में दिल्ली जैसे हालात, CM गहलोत ने बताया- स्वास्थ्य आपातकाल

सुनीता नांगल की बहू है और यही से पंचायत चुनाव में सरपंच पद के लिए अपनी किस्मत आजमा रहीं हैं.गांव में बिजली, पानी, रोजगार, स्वास्थ्य और लड़कियों की शिक्षा और विकास उनकी पहली प्राथमितका होगी.बता दें कि राजस्थान में तीन चरण में सरपंच चुनाव हो रहे हैं. पहले चरण का चुनाव 17 जनवरी को हो चुका है.सुनीता का कहना है कि विदेश में रहते समय उन्होंने महसूस किया कि प्रवासी अपनी माटी के लोगों के लिए बहुत कुछ करने की चाहत रखते हैं. बस उन्हें प्रोत्साहित करने की आवश्यकता है.