सिद्धार्थ कुमार-देश दुनिया के कविसम्मेलन व मुशायरा में काव्यपाठ किया

0
320

जयपुर जिले के कोटपूतली तहसील में एक छोटे से गाँव चेचीका नांगल में बेबाक़ शायरी करने वाले शायर सिद्धार्थ कुमार का साहित्य के क्षेत्र में जाना पहचाना नाम हैं ! सिद्धार्थ कुमार सबसे कम उम्र में प्रधानमंत्री के हाथो से “राष्ट्रीय युवा पुरस्कार” से सम्मानित होने वाले युवा कवि हैं ! सिद्धार्थ ने देश दुनिया के कविसम्मेलन व मुशायरा में काव्यपाठ किया हैं ! विज्ञान की पढ़ाई करने वाले सिद्धार्थ कुमार के ख़ून में साहित्य था ओर जब विज्ञान व साहित्य का मिलन हुआ तो उसने सिद्धार्थ से जोशिले शायर को जन्म दिया ! डीपीके से बातचीत करने मे उन्होने बहुत सी बाते बताई ….

1 . सवाल—- शेरों शायरी का शौक़ आपमें कैसे पैदा हुआ ?
उत्तर—- स्कूल के वक़्त से ही सांस्कृतिक कार्यक्रमों में हिस्सा लिया करता था ! साहित्यिक लगाव बचपन से ही था ! 12 वी कक्षा में एक निजी चैनल पर काव्यपाठ करने से कविसम्मेलन जगत में अलग पहचान मिली ओर कार्यक्रमों का सिलसिला शुरू हो गया !

2 सवाल…आप एक विज्ञान के विद्यार्थी थे ! ओर फिर साहित्य के क्षेत्र में जाने पर घरवालों का रुझान कैसा रहा ?

उत्तर—— घरवालों का रेस्पॉन्स अच्छा नही था ! सच ये हैं कि घरवाले डॉक्टर बनाना चाहते थे ओर बनने के लिए मैंने PMT परीक्षा पास भी कर ली थी लेकिन अपने आप से न्याय नही कर पाने के कारण घरवालों से बग़ावत कर कविसम्मेलन की दुनिया में आया !

3 सवाल….आप कोटपूतली के एक छोटे से गाँव से आकर देश दुनिया का सफ़र तय किया ! आज गाँव से लगाव कैसा हैं ?

उत्तर—मैं गाँव की मिट्टी से निकला हुआ किसान का बेटा हूँ ! मेरी पसंदीदा पंक्तियाँ हैं —“मैं कही भी रहू हर साँस यहाँ रहती हैं
ये ज़मीं वो हैं जहाँ पे मेरी माँ रहती हैं”

4 सवाल… समाज में बढ़ते हुए अंग्रेज़ी के वर्चस्ववाद में आप आज “ हिंदी” को कहाँ पाते हैं ?

READ More...  Lockdown: मनरेगा में रोजगार देने में राजस्थान देशभर में सबसे आगे, 24.31 लाख तक पहुंची संख्या

उत्तर—- मुझे किसी भाषा से कोई ऐतराज़ नही हैं ! लेकिन जो A फ़ॉर ऐपल से शुरू होती हैं ओर Z फ़ॉर ज़ेब्रा बनाती हैं आप हिन्दी पढ़िए अ अनपढ़ से शुरू होती हैं ओर ज्ञ ज्ञानी बनाती हैं ! हिंदी भाषा नही हैं हिन्दी तहज़ीब व संस्कृति हैं जो कि आपको अपने होने का गौरवबोध कराती हैं !अंग्रेज़ी आपको सिर्फ़ कार दिला सकती हैं हिन्दी आपको संस्कार दिलाती हैं !

5 सवाल….आप अपनी शायरी में कुछ विशेष लोगों को निशाने पर रखते हैं ऐसा क्यूँ ?

उत्तर—-शायरी समाज का आइना होता हैं ओर शायर समाज में फैली ख़ामियों को अपनी शायरी के माध्यम से उजागर करता हैं ! मेरा भी प्रयास रहता हैं कि समाज में जो घट रहा हैं उस दर्द को अपने श्रोताओ के साथ बाँटू !

6 सवाल….हिंदी को राष्ट्र भाषा का दर्जा दिलाने पर आपका क्या कहना हैं ?

उत्तर—-दरअसल देश की सियासत ने हर अच्छे काम में मट्ठा डाला हैं !कुछ राजनीतिज्ञों से ऐसा माहौल तैयार किया कि हिन्दी को राष्ट्रभाषा का दर्जा मिलने पर देश में आग लग जाएगी ! मैं बडी विनम्रता से हिंदी भाषी लोगों से ये कहता हूँ कि आप भी हिन्दी भाषा के साथ साथ अन्य भाषाओं का अध्ययन करे ! तभी जाकर अन्य भाषा के लोग भी हिंदी को पढ़ना शुरू करे ! ओर अपने मन के अंदर से हिंदी भाषा के दरिद्र बोध को हटाए !

7 सवाल… आप एक क्रांतिकारी कवि व शायर हैं आज आप युवाओं को क्या संदेश देना चाहते हैं !

उत्तर—-मेरा देश के युवाओं से एक ही संदेश हैं कि ज़्यादा से ज़्यादा अध्ययन व आध्यात्मिकता पर बल दे जिससे कि आप अंधेरो में डरेंगे नही ओर उजालों में बहकेगे नही !यदि तरक़्क़ी करनी हैं तो सिविल सेवा में आए , शिक्षा पर विशेष ध्यान दे क्यूँकि नेतृत्व से तरक़्क़ी नही मिलेगी बल्कि सिविल सेवा से ही तरक़्क़ी संभव हैं !!