किस स्टेज पर हैं ह्यूमन ट्रायल ,कहां तक पहुंची है तलाश , कब पहुंचेगी कोरोना वैक्सीन आप तक?

0
55
A lab technician extracts a portion of a COVID-19 vaccine candidate during testing at the Chula Vaccine Research Center, run by Chulalongkorn University in Bangkok, Thailand, Monday, May 25, 2020. Researchers in Thailand claim to have promising results with the vaccination on mice, and have begun testing on monkeys. (AP Photo/Sakchai Lalit)

Corona Vaccine: आईए एक नजर डालते हैं उन चार वैक्सीन पर जिस पर पूरी दुनिया की निगाहें टिकी हैं. साथ ही ये वो वैक्सीन हैं जिनके ह्यूमन ट्रायल चल रहे हैं.

नई दिल्ली. कोरोना वायरस ने दुनिया भर में कोहराम मचा रखा है. अब तक इस खतरनाक वायरस से 6 लाख लोगों की जान जा चुकी है. जबकि पूरी दुनिया में इस बीमारी की चपेट में 1 करोड़ 40 लाख आ चुके हैं. अमेरिका में हर दिन नए मरीजों का रिकॉर्ड बन रहा है. जबकि भारत में मरीजों की संख्या 10 लाख के पार पहुंच गई है. कोरोना वायरस ने करीब 9 महीने पहले दुनिया में दस्तक दी थी. लेकिन अभी तक इस वायरस से लड़ने के लिए कोई ठोस दवा का ईजाद नहीं हुआ है. लिहाज़ा हर किसी की निगाहें कोरोना के वैक्सीन पर टिकी है. आईए एक नजर डालते हैं कि दुनिया भर में इस वक्त कितनी वैक्सीन पर काम चल रहा है और ये कब तक हमें मिल जाएगा.

140 वैक्सीन पर काम
विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के मुताबिक इस वक्त दुनिया भर में 140 वैक्सीन पर काम चल रहा है. इसमें से 23 वैक्सीन ऐसे हैं जिसके क्नीनिकल ट्रायल चल रहे हैं. वैसे तो किसी वैक्सीन को तैयार करने में सालों लग जाते हैं. लेकिन कोरोना जैसी बीमारी से लड़ने के लिए दुनिया के वैज्ञानिक इन दिनों युद्धस्तर पर काम कर रहे हैं. ऐसे में उम्मीद की जा रही है कि इस साल के आखिर तक या फिर अगले साल के शुरुआत में वैक्सीन की तलाश पूरी हो जाएगी. आईए एक नजर डालते हैं उन चार वैक्सीन पर जिस पर पूरी दुनिया की निगाहें टिकी हैं. साथ ही ये वो वैक्सीन हैं जिनके ह्यूमन ट्रायल चल रहे हैं.

मोडेरना

>>अमेरिका ये वो कंपनी है जिसने कोरोना पर सबसे पहले काम शुरू किया.

>> कंपनी ने mRNA-1273 वैक्सीन की पहली डोज़ सिर्फ 42 दिनों में तैयार कर लिया. इसके बाद इसे टेस्ट के लिए अमेरिका के नेशनल इंस्टिट्यूट्स ऑफ़ हेल्थ को भेजा गया.
>> अब तक की रिपोर्ट के मुताबिक पहले दो फेज के क्लीनिकल ट्रायल से अच्छे नतीजे सामने आए हैं. इस वैक्सीन का मुश्किल और तीसरा पड़ाव 27 जुलाई से शुरू होगा. इस दौरान करीब तीस हज़ार लोगों पर इसका परीक्षण किया जाएगा. इस टेस्ट के बाद ये साफ हो जाएगा कि ये वैक्सीन वाकई में कोविड-19 से मानव शरीर को बचा सकती है या नहीं.
>> इसके पहले फेज का ट्रायल 16 मार्च को शुरू हुआ था. इस दौरान 18-55 साल के उम्र के 45 लोगों पर इसका परीक्षण किया गया था. इसकी रिपोर्ट छप चुकी है और अच्छे नतीजे मिले हैं.

READ More...  रास्ते में हो गई लापता पीहर जा रही समदड़ी की पूर्व प्रधान, , पुलिस कर रही तलाश

ऑक्‍सफोर्ड यूनिवर्सिटी और एस्‍ट्राजेनेका
>>ऑक्सफोर्ड युनिवर्सिटी की वैक्सीन से पूरी दुनिया को काफी ज्यादा उम्मीदें है. इसके क्लीनिकल ट्रायल अलग-अलग देशों में चल रहे हैं.
>> भारत का सीरम इंस्टिट्यूट भी ऑक्सफोर्ड के इस प्रोजेक्ट में पार्टनर है. सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया दुनिया में सबसे ज्यादा वैक्सीन बनाने के लिए जाना जाता है.
>> अप्रैल में इसके पहले फेज के ह्यूमैन ट्रायल शुरू हुए थे. इस दौरान 1112 लोगों पर इसका परीक्षण किया गया.
>> फिलहाल इस वैक्सीन के तीसरे फेज का ट्रायल साउथ अफ्रीका और ब्राज़ील में चल रहा है.
>>ह्यूमन ट्रायल के नतीजों की आधिकारिक घोषणा अभी नहीं हुई है. उम्‍मीद की जा रही है कि इसकी आधिकारिक घोषणा अगले एक दो दिनों में कर दी जाएगी
>>ऑक्‍सफोर्ड यूनिवर्सिटी ने दावा किया है कि ट्रायल में शामिल लोगों में एंटीबॉडी और व्‍हाइट ब्लड सेल्स (T-Cells) विकसित हुईं. इनकी मदद से मानव शरीर संक्रमण से लड़ने के लिए तैयार हो सकता है.
>> सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया के सीईओ अदर पूनावाला के मुताबिक अगस्त में इस वैक्सीन के ह्यूमन ट्रायल भारत में भी होंगे. बता दें कि कंपनी इस वैक्सीन का डोज तैयार करने में अभी से लगी है.
>>सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया के मुताबिक इस वैक्सीन के सैंपल के टेस्ट हिमाचल प्रदेश में कसौली के सरकारी लैब में चल रहा है.

भारत बायोटेक
>>भारत बायोटेक ने कोरोना वैक्सीन के ह्यूमन ट्रायल की शुरुआत कर दी है. कंपनी ने ट्रायल की शुरुआत पर खुशी जाहिर की है. कंपनी ने कहा है कि वैक्सीन के ह्यूमन क्लीनिकल ट्रायल के पहले फेज की शुरुआत की जा चुकी है. ये रैंडमाइज्ड, डबल ब्लाइंड ट्रायल होगा.
>> पहले फेज इसमें 375 वॉलंटियर हिस्सा ले रहे हैं. इसका ट्रायल देश के अलग-अग एम्स में चल रहा है.
>>. भारत बायोटेक कंपनी ने इससे पहले पोलियो, रेबीज, चिकनगुनिया, जापानी इनसेफ्लाइटिस, रोटावायरस और जीका वायरस के लिए भी वैक्सीन बनाई है.

जायडस कैडिला
>>गुजरात की कंपनी जायडस कैडिला हेल्थ केयर लिमिटेड ने कोविड-19 वैक्सीन का क्लिनिकल ट्रायल 15 जुलाई से शुरू कर दिया है.
>>जायडस केडिला के चेयरमैन और एमडी पंकज आर पटेल के मुताबिक कोविड-19 के संभावित टीके ‘ZyCoV-D’ का क्लिनिकल परीक्षण सात महीने में पूरा कर लेगी.