देश में 24 घंटे में जितने आए कोरोना केस, उससे ज्यादा लोग ठीक होकर पहुंचे घर

0
38
स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक पिछले 24 घंटे में 57,937 कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों को अस्पताल से छुट्टी दी गई है, जिसके बाद देश में कोरोना से ठीक होने की दर 73.17 प्रतिशत हो गई है.

देश में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों ने अब थोड़ी राहत देना शुरू कर दिया है. पिछले 24 घंटे में जितने कोरोना के नए केस सामने आए हैं, उससे कहीं ज्यादा लोग ठीक हुए हैं. देश में अब तक 20 लाख के करीब कोरोना संक्रमित मरीज ठीक होकर अपने घर जा चुके हैं. स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक पिछले 24 घंटे में 57,937 मरीजों को अस्पताल से छुट्टी दी गई है, जिसके बाद देश में कोरोना से ठीक होने की दर 73.17 प्रतिशत हो गई है. मंत्रालय के मुताबिक भारत में अब तक 3,09,41,264 लोगों की कोरोना जांच की जा चुकी है जबकि 17 अगस्त को 8,99,864 लोगों की कोरोना जांच कराई गई है.

स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक देश में इस समय कोरोना संक्रमित मरीजों संख्या 27 लाख 2 हजार 742 है. इनमें से 6 लाख 73 हजार 166 लोग अभी भी अस्पताल में भर्ती हैं जबकि 19 लाख 77 हजार 779 मरीज ठीक होकर अपने घर जा चुके हैं. रविवार से सोमवार के कोरोना मरीजों के आंकड़ों पर गौर करें तो रविवार तक देश में कोरोना के ​एक्टिव मरीजों की संख्या 6 लाख 76 हजार 900 के करीब थी जबकि सोमवार को यह संख्या 3734 के करीब कम होकर 6 लाख 73 हजार 166 हो गई है.

देश में कोरोना वायरस के संक्रमण में सबसे ज्यादा प्रभावित महाराष्ट्र दिखाई दे रहा है. यहां पर अब तक कोरोना के 604358 केस सामने आ चुके हैं, जिसमें से एक्टिव केस की संख्या 155579 है. इसके बाद आंध्र प्रदेश का नंबर आता है जहां पर 296609 कोरोना मरीज अब तक आ चुके हैं जबकि एक्टिव केस 184777 है. रिकवरी के मामले में दिल्ली सबसे बेहतर कर रही है. दिल्ली में अब तक 153367 कोरोना मरीज आ चुके हैं जबकि एक्टिव केस मरीजों की संख्या अब केवल 10852 है. इसी तरह तमिलनाडु में 343945 कोरोना मरीज है जबकि एक्टिव केस केवल 54 हजार 122 है.

READ More...  हिना खान को परेशान करता था लड़का, भेजता था वीडियो, कहता था- 'मैं आ रहा हूं'

अब तक 3 करोड़ से ज्यादा हुई टेस्टिंग
इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च के मुताबिक, अब तक देश में 3 करोड़ 9 लाख 41 हजार 264 कोरोना टेस्टिंग हो चुकी है. सोमवार को 8 लाख 99 हजार 864 लोगों के सैंपल की जांच की गई.