कोटा और झालावाड़ से गंगानगर के लिए 2 सुपरफास्ट पैसेंजर ट्रेन चलेगी

0
123

दशहरा और दीपावली से पहले राजस्थान के कोटा, झालावाड़ और गंगानगर के लोगों को रेलवे दो और ट्रेनों का तोहफा देने वाली है. COVID-19 को लेकर महीनों तक रेल परिचालन पर पाबंदी के बाद अब NWR ने ट्रेनों की संख्या बढ़ाने का फैसला किया है. इसके तहत पहले दिल्ली तक डबल-डेकर ट्रेन और अब दो नई सुपरफास्ट पैसेंजर ट्रेन चलाने का निर्णय लिया गया है. त्योहारी सीजन को देखते हुए NWR ने कोटा-श्रीगंगानगर और झालावाड़ सिटी-गंगानगर के बीच 2 सुपरफास्ट पैसेंजर ट्रेन चलाने की तैयारी की है. ये दोनों ट्रेनें स्पेशल ट्रेन होगी, जो शाम के समय रवाना होकर दूसरे दिन सुबह में अपने गंतव्य पर पहुंचेगी.

कोटा-श्रीगंगानगर-कोटा सुपरफास्ट स्पेशल ट्रेन का संचालन 12 अक्टूबर से शुरू हो रहा है. NWR के सीपीआरओ सुनील बेनीवाल ने बताया कि गाड़ी संख्या 02981 कोटा-श्रीगंगानगर सुपरफास्ट स्पेशल सप्ताह में 4 दिन चलेगी. रेलवे के मुताबिक 12 अक्टूबर से अगले आदेशों तक यह ट्रेन हर सोमवार, मंगलवार, शुक्रवार और शनिवार को चलेगी. कोटा से यह ट्रेन शाम 17.20 बजे रवाना होकर अगले दिन 09.55 बजे श्रीगंगानगर पहुंचेगी. इसी प्रकार गाड़ी संख्या 02982 श्रीगंगानगर-कोटा सुपरफास्ट स्पेशल ट्रेन भी सप्ताह में 4 दिन चलेगी. यह 15 अक्टूबर से शुरू होगी. यह ट्रेन प्रत्येक सोमवार, गुरुवार, शुक्रवार और रविवार को श्रीगंगानगर से शाम 17.40 बजे रवाना होकर अगले दिन 09.55 बजे कोटा पहुंचेगी. इस ट्रेन में 1 सेकेंड एसी, 6 थर्ड एसी, 9 द्वितीय शयनयान, 4 साधारण श्रेणी और 2 पावरकार होंगे.

NWR के सीपीआरओ सुनील बेनीवाल ने बताया कि झालावाड़ सिटी-श्रीगंगानगर-झालावाड़ सिटी सुपरफास्ट स्पेशल ट्रेन 14 अक्टूबर से शुरू होगी. गाड़ी संख्या 02997 झालावाड़ सिटी-श्रीगंगानगर सुपरफास्ट स्पेशल हफ्ते में 3 दिन चलेगी. यह हर बुधवार, गुरुवार और रविवार को झालावाड़

READ More...  ओडिशा बोर्ड 12वीं साइंस का रिजल्ट थोड़ी देर में होगा जारी

सिटी से दोपहर 15.25 बजे रवाना होकर अगले दिन 10.15 बजे श्रीगंगानगर पहुंचेगी. इसी प्रकार गाड़ी संख्या 02998 श्रीगंगानगर-झालावाड़ सिटी सुपरफास्ट स्पेशल 13 अक्टूबर से अगले आदेशों तक हर मंगलवार, बुधवार और शनिवार को श्रीगंगानगर से शाम 17.20 बजे रवाना होकर अगले दिन 11.55 बजे झालावाड़ सिटी पहुंचेगी. इस ट्रेन में 1 सेकेंड एसी, 6 थर्ड एसी, 9 द्वितीय शयनयान, 4 साधारण श्रेणी और 2 पावरकार होंगे.