सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद से सदमे में चल रहीं उनकी भाभी ने भी तोड़ा दम

0
384

इस वक्त की बड़ी खबर बिहार के पूर्णिया से आ रही है जहां अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत  की भाभी का निधन हो गया है. दो दिन पहले मुंबई में आत्महत्या करने वाले इस अभिनेता की चचेरी भाभी सुधा देवी पहले से बीमार चल रही थी लेकिन सुशांत सिंह की आत्महत्या के बाद वो गहरे सदमे में चली गई थी और उनकी मौत हो गई.

पैतृक गांव में हुई मौत

सुशांत के निधन के बाद से सदमें में चली गईं उनकी भाभी सुधा ने सोमवार की देर रात थी पूर्णिया के मलडीहा गांव जो कि सुशांत का पैतृक गांव भी है स्थित ससुराल में दम तोड़ दिया. इसकी पुष्टि उनके परिवार के लोगों ने भी की है. परिजनों का कहना है की सुधा देवी करीब 5 साल से लीवर कैंसर से पीड़ित थी और जब सुशांत राजपूत के मौत की सूचना उन्हें मिली तो उन्हें भी इस बात का गहरा सदमा लगा .पहले से कैंसर पीड़ित होने के कारण इस सदमे को वह बर्दाश्त नहीं कर पाई और सोमवार की शाम में मलडीहा गांव में ही उनका निधन हो गया. मृतक सुधा देवी के भतीजा सानू कुमार और देवर राकेश सिंह ने कहा कि 17 जून को सुधा देवी के बेटा शंकर सिंह का शादी होने वाली था.

सोमवार को हुआ है सुशांत का अंतिम संस्कार

सोमवार को इस अभिनेता का अंतिम संस्कार मुंबई के विले पार्ले में किया गया जिसमें उनके पिता केके सिंह, भाई नीरज कुमार बबलू समेत परिवार के गिने चुने लोग ही जा सके थे. सुशांत ने रविवार को मुंबई स्थित फ्लैट में आत्महत्या कर ली थी. इस खबर ने पूरे देश को झकझोर कर रख दिया था.

READ More...  पत्रकारों की हत्या और उत्पीड़न के खिलाफ एनयूजे का प्रधानमंत्री कार्यालय तक विरोध मार्च

सदमे में हैं लोग

पूर्णिया के लाल मलडीहा निवासी सुशांत सिंह राजपूत की मौत से गांव में गहरा शोक व्याप्त है. रविवार को जैसे ही सुशांत सिंह राजपूत के आत्महत्या करने की सूचना उनके पैतृक गांव में पहुंची उसके बाद से गांव में चूल्हा तक नहीं जला है. सुशांत के चचेरे भाई संतोष सिंह ने बताया कि गांव के सभी लोग उनके मौत की सूचना से गमगीन हैं.

नवंबर में होनी थी शादी 

अपने घर के चिराग की मौत से पूरा परिवार रो रहा है. सुशांत की चाची रोते हुए कहती हैं, अब कौन चारों धाम की यात्रा पर ले जाएगा. सुशांत के घरवालों के मुताबिक नवंबर में ही सुशांत की शादी होनी थी और उसमें शामिल होने के लिए ही सभी को मुंबई भी जाना था लेकिन होनी को पता नहीं क्या मंजूर था. सबको साथ लेकर मुंबई ले जाने वाला गुलशन अकेले ही हमें छोड़कर निकल गया.