ब्रह्मांड में 10 गुना बढ़ गया तापमान, वैज्ञानिकों ने बताई ये वजह

0
23

बढ़ते तापमान को लेकर वैज्ञानिकों ने बड़ी चिंता जाहिर की है. वैज्ञानिकों का कहना है कि लगातार बढ़ता तापमान न केवल पृथ्वी बल्कि पूरे ब्राह्मांड के लिए चिंता का विषय है. ओहायो स्टेट यूनिवर्सिटी सेंटर फॉर कॉस्मोलॉजी और एस्ट्रोपार्टिकल फिजिक्स द्वारा किए गए एक अध्ययन के मुताबिक, ब्रह्मांड का तापमान गतिशील रूप से बढ़ता ही जा रहा है. पिछले 10 अरब वर्षों में ब्रह्मांड के थर्मल इतिहास की जांच करने के बाद यह निष्कर्ष निकाला गया है.

अध्ययन के मुताबिक, ब्रह्मांड में गैसों का औसत तापमान पिछले 10 अरब वर्षों में 10 गुना से अधिक बढ़ गया है. वैज्ञानिकों ने शोध में पाया है कि तापमान आज लगभग 20 लाख डिग्री केल्विन तक पहुंच गया है जो लगभग 4 मिलियन डिग्री फ़ारेनहाइट है. शोधकर्ता फेलो यी कुआन चियांग के अनुसार, तापमान का नया मापन 2019 में भौतिकी में नोबेल प्राइज प्राप्त वैज्ञानिक जिम पीबल्स द्वारा प्रभावशाली कार्य को सही साबित करता है. जिम पीबल्स ने अपने सिंद्धात में समझाया था कि ब्रह्मांड में बड़े पैमाने पर संरचना कैसे बनती है.

इस वजह से बढ़ रहा तापमान

अध्ययन में बताया गया है कि ब्रह्मांड के विकास के साथ गुरुत्वाकर्षण बल अंतरिक्ष में काले पदार्थ और गैस को एक साथ आकाशगंगाओं और आकाशगंगाओं के समूहों में खींचता है. इस प्रक्रिया से निकलने वाली ऊर्जा से भीषण गर्मी उत्पन्न हो रही है. इस शोध का संचालन करने के लिए वैज्ञानिकों ने पृथ्वी से दूर गैस के तापमान को मापने के लिए एक नई विधि का इस्तेमाल किया. फिर वैज्ञानिकों ने उन मापों की तुलना पृथ्वी के करीब और वर्तमान समय में मौजूद गैसों से की.

READ More...  UP के इस शहर में दशहरे पर भगवान राम और रावण की सेना में होता है जमकर युद्ध

ब्रह्मांड में हो रही दो अलग-अलग घटनाएं

वैज्ञानिकों ने कहा कि ब्रह्मांडीय संरचना के गुरुत्वाकर्षण बल के कारण ब्रह्मांड समय के साथ अधिक गर्म हो रहा है और इसके भविष्य में और बढ़ने की संभावना नजर आ रही है. ब्रह्मांड के तापमान में वृद्धि कैसे हुई, यह देखने के लिए प्लैंक और स्लोअन डिजिटल स्काई सर्वे के डेटा का उपयोग किया गया था. अध्ययन के प्रमुख लेखक ने कहा कि आकाशगंगा और संरचना के गठन की प्राकृतिक प्रक्रिया के कारण ब्रह्मांड गर्म हो रहा है. उन्होंने कहा कि ये दोनों घटनाएं बहुत अलग-अलग पैमाने पर हो रही हैं जो आपस में कोई संबंध नहीं रखती हैं.