लॉकडाउन का ठीक से पालन नहीं करते दिल्ली और मुंबई के लोग, इसलिए यहां है ज्यादा मरीज: स्वास्थ्य मंत्री

0
85

नई दिल्ली : केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन का कहना है कि दिल्ली और मुंबई जैसे शहरों में लोग लॉकडाउन का ठीक तरीके से पालन नहीं करते हैं. उनके मुताबिक यहीं वजह है कि इन शहरों में कोरोना के मरीजों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है. उन्होंने ये भी कहा कि भारत के ग्रामीण इलाकों के लोग लॉकडाउन का अच्छे से पालन कर रहे हैं.

ग्रामीण इलाके ज्यादा गंभीर
न्यूज़ 18 से खास बातचीत में डॉक्टर हर्षवर्धन से जब पूछा गया कि आखिर दिल्ली और मुंबई जैसे महानगरों में कोरोना के सबसे ज्यादा मामले क्यों हैं. तो इस सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, ‘मुझे लगता है कि दिल्ली और मुंबई जैसे शहरों में लोग लॉकडाउन का बेहतर तरीके से पालन नहीं कर रहे हैं. मुझे लगता है कि इस लॉकडाउन में ग्रामीण इलाकों के लोग ज्यादा गंभीर हैं.’

दोनों शहरों में लगातार बढ़ रहे हैं मामले

बता दें कि देश भर के कोरोना के 20 फीसदी मरीज मुंबई से ही है. मुंबई में 8613 लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं. अब तक यहां 343 लोगों की मौत हो चुकी है. जबकि दिल्ली में अब तक कोरोना के 4549 मामले सामने आए हैं. रविवार को यहां रिकॉर्ड 427 नए मामले सामने आए. हालांकि डॉक्टर हर्षवर्धन का कहना है कि इन दो शहरों में इसलिए मरीजों की संख्या ज्यादा है क्योंकि विदेश से लौटने वाले ज्यादातर लोग यहीं पहुंचे. उन्होंने कहा, ‘दिल्ली और मुंबई में काफी बड़ी संख्या में लोग झुग्गी झोपड़ी इलाके में रहते हैं ऐसे में यहां लॉकडाउन को लागू करना आसान नहीं होता है.’

READ More...  पीएम मोदी के सात दिन और विपक्षी हमले कुंद, शक्तिशाली से गौरवशाली भारत तक

अब तक 10 लाख से ज्यादा टेस्ट
स्वास्थ्य मंत्री ने ग्रामीण इलाकों की तारीफ करते हुए कहा कि यहां लॉकडाउन का अच्छे पालन हो रहा है. उन्होंने ये भी कहा कि प्रवासी मजदूरों से ज्यादा खतरा नहीं है क्योंकि ये विदेश से वापस आये लोगों के संपर्क में ज्यादा नहीं आए. उन्होंने ये भी कहा कि भारत में अब तक 10 लाख से ज्यादा लोगों का टेस्ट हो चुका है. अच्छी बात ये है कि दूसरे देशों के मुकाबले यहां ज्यादा मरीज नहीं मिल रहे हैं.

स्वास्थ्य मंत्री का ये भी कहना है कि देश भार अगले कुछ दिनों में एक लाख टेस्ट किए जाएंगे. जिस किसी को भी कोरोना के लक्षण है उनका टेस्ट किया जाएगा.